कश्मीर को अंधेरे में धकेलने के लिए आतंकवादियों ने अपनाया यह रणनीति

ब्लैकआउट करने की साज़िश का पुलिस ने किया पर्दाफाश

श्रीनगर: दक्षिणी कश्मीर के शोपियां में दो बिजली के ट्रांसमिशन टावर काटने का हुए प्रयास करके आतंकवादियों ने आम लोगों को नुकसान पहुंचाने के लिए नई रणनीति अपनाई है. दक्षिण कश्मीर के चितरगाम गांव में आतंकियों के द्वारा ब्लैकआउट करने की साज़िश का पुलिस ने पर्दाफाश किया है.

सुरक्षाबलों के मुताबिक आतंकी बिजली ट्रांसमिशन टॉवर को काटने के लिए एक खतरनाक कोशिश की है. सुरक्षा बलों ने दो गैर-स्थानीय ट्रक ड्राइवरों की हत्या के बाद क्षेत्र की तलाशी करते हुए शोपियां के इस इलाके में 440-मेगावाट बिजली ट्रांसमिशन टॉवर के निचले हिससे के कट-आउट कटा पाया.

विशेषज्ञों का मानना ​​है कि अगर यह कदम सफल होता, तो पूरी घाटी में अंधेरे में छा जाता. टॉवर पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड का है और एक प्रमुख ट्रांसमिशन लाइन है जो घाटी को उत्तरी ग्रिड से जोड़ती है.

जम्मू कश्मीर पुलिस के महानिदेशक दिलबाग सिंह ने बताया, ‘मिलिटेंट्स जो पाकिस्तान के इशारे पर इस काम पर लगे हैं चाहते हैं यहां दोनों को चोट पहुंचाई जाए. दोनों को नुकसान पहुंचाया जाए. यह लोगों की रोज़ी रोटी पर हमला है.

हमने इसकी तफ्तीश शुरू की है, पहचान हो चुकी है, हमें मालूम है कौन-कौन लोग इसमें शामिल है, जिन्होंने टावर को डैमेज करने की कोशिश की. लोगों को दी जाने वाली सुविधाओं को नष्ट करने के लिए टॉवर को नुकसान पहुंचाया गया था. हमने और ठोस कदम उठाए हैं और मुझे उम्मीद है कि इस मामले को जल्द क्रैक किया जाएगा.’

Back to top button