सीमा पार लॉन्चिंग पैड पर जमा हुए आतंकी, नए रूटों से घुसपैठ की कोशिश

<श्रीनगर।

सीमा पर मुंह की खाने के बावजूद पाकिस्तान अपने मंसूबों से बाज नहीं आ रहा है. वह लगातार भारत में आतंकियों की घुसपैठ कराने की फिराक में रहता है. पाकिस्तान की इन्हीं हरकतों की वजह से भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत को आतंकियों के खिलाफ एक और सर्जिकल स्ट्राइक करने की बात कहनी पड़ी.

हकीकत भी यही है कि आतंकियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के बिना सीमा पार से घुसपैठ और गोलीबारी की घटनाएं थमने वाली नहीं हैं. ऐसे में आतंकियों द्वारा घुसपैठ के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले रूटों पर सर्जिकल स्ट्राइक करके आतंकियों के नापाक हौसले पस्त किए जा सकते हैं.

बर्फबारी तक बना हुआ है खतरा

खुफिया सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान PoK से नए रास्तों के जरिए आतंकी घुसपैठ कराने की फिराक में है. पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI और सेना बर्फबारी होने से पहले इन्हीं रास्तों से आतंकियों की घुसपैठ करा सकते हैं. जानकारी के मुताबिक जम्मू-कश्मीर के गुरेज सेक्टर में सीमा पार PoK के 3 लॉन्च पैड्स (लोसर कंप्लेक्स, सोनार, और सरदारी) के जरिए 30 आतंकियों की घुसपैठ कराने के लिए पाकिस्तानी आर्मी और ISI ने आतंकियों को जमा किया है.

इन रूटों का हो सकता है इस्तेमाल

सूत्रों ने आजतक से खास बातचीत में बताया कि आतंकी सीमा पार से घुसपैठ के लिए जिन रास्तों का इस्तेमाल कर सकते हैं, उनमें नौशेरा नार, गोविंद नाला और परिबल फॉरेस्ट जैसे आतंकी रूट भी शामिल हैं. इन रूटों के जरिए आतंकी बांदीपोरा में घुसपैठ करने को तैयार हैं. इतना ही नहीं, माछिल सेक्टर के सरदारी, केल और तेजिन के लॉन्च पैड्स पर भी 46 आतंकी मौजूद हैं. इस सेक्टर के आतंकी रास्तों की विस्तृत खुफिया जानकारी मौजूद है. इसके मुताबिक 46 आतंकी रिंग पेन और कुमकारी गली के रास्ते से होते हुए कुपवाड़ा में घुसपैठ कर सकते हैं.

60 से ज्यादा आतंकी हैं फिराक में

आजतक को मिली जानकारी के मुताबिक जम्मू-कश्मीर के केरन सेक्टर के उस पार पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में भी लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद और हिजबुल मुजाहिदीन के 61 आतंकी मौजूद हैं. भारतीय खुफिया एजेंसियों इस बाबत सरकार को रिपोर्ट दी है. केरन सेक्टर के सामने दुधनियाल और अठमुगम लॉन्च पैड में ये आतंकी मौजूद हैं.

पाकिस्तान इन आतंकियों को नए खोजे गए रूटों से घुसपैठ कराने की कोशिश में है. रिपोर्ट के मुताबिक सलाहबाथो, डोमरी फॉरेस्ट, मुंगेरकाला, ख्वाजा बेख और डाट गली रास्तों का इस्तेमाल करके ये आतंकी कुमरारी और राजवार के जंगल होते हुए कुपवाड़ा में घुसपैठ करके दहशतगर्दी को अंजाम देने की तैयारी में हैं.

लॉन्च पैड से भी दर्जनों आतंकियों का खतरा

इसके अलावा तंगधार सेक्टर में ज़ुरा, खोई और छेजुआ जैसे खतरनाक आतंकी लॉन्च पैड्स हैं. यहां से 33 से ज्यादा आतंकी कश्मीर घाटी में PoK से आकर तबाही मचाने की फिराक में हैं. इस इलाके में रंगवार, चौकी बल और ड्रंगयारी जैसे कई आतंकी रूट हैं, जिनके जरिए पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई घुसपैठ कराने की पूरी कोशिश कर रही है.

पाकिस्तान चाहता है कि बर्फबारी होने से पहले PoK से घाटी की तरफ आने वाले नदी, नालों और गलियों का इस्तेमाल कर आतंकियों की ज्यादा से ज्यादा घाटी में घुसपैठ करा दी जाए. हाल ही में सुरक्षा बलों ने तंगधार सेक्टर में घुसपैठ करते हुए पांच आतंकियों को ढेर कर दिया था.

इसके अतिरिक्त नौगाम सेक्टर में पिछले साल की अपेक्षा भारी संख्या में आतंकी मौजूद है. यहां पर ISI ने 6 नए लॉन्च पैड्स को सक्रिय कर आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश में है. खुफिया सूत्रों के मुताबिक यह एक ऐसा इलाका है, जहां पर 50 लश्कर, जैश और हिजबुल के आतंकी मौजूद हैं. इसके अलावा उरी सेक्टर समेत अन्य इलाकों में भी सीमा पार काफी संख्या में आतंकी घुसपैठ के लिए तैयार बैठे हैं.

सेना कर सकती है सर्जिकल स्ट्राइक

अगर इन आतंकियों और इनके सरगनाओं के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक कर दी जाए, तो घुसपैठ की कोशिश रोकी जा सकती है. साथ ही इससे आतंकियों के हौसले पस्त हो सकते हैं. सेना प्रमुख बिपिन रावत के एक और सर्जिकल स्ट्राइक करने के बयान के बाद अटकलें लगाई जा रही हैं कि आखिर इस बार सेना को किन इलाकों में सर्जिकल स्ट्राइक करनी चाहिए?

Back to top button