राष्ट्रीय

आतंकियों ने एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं को बनाया निशाना

हमले की जिम्मेदारी लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े एक संगठन ने ली

जम्मू: जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में एक आतंकी हमले में बीजेपी के तीन कार्यकर्ताओं की मौत हो गई. इस हमले की जिम्मेदारी लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े एक संगठन ने ली है, जिसने सोशल मीडिया पर भी पोस्ट लिखकर धमकी दी है. लश्कर ए तैयबा के ही संगठन द रेजिस्टेंस फ्रंट (TRF) ने गुरुवार को कुलगाम में हुए आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली है. इस आतंकी हमले में बीजेपी के नेता नेता फिदा हुसैन, उमर हजम, उमर राशिद की गोली मारकर हत्या कर दी गई.

आतंकी संगठन TRF ने इस आतंकी हमले के बाद सोशल मीडिया पर एक पोस्ट भी लिखा, जिसमें धमकी दी गई कि श्मशान घाट भी ओवरबुक हो जाएंगे. आपको बता दें कि लश्कर ए तैयबा के ही संगठन TRF को पिछले कुछ वक्त पहले ही तैयार किया गया है, जिसमें जम्मू-कश्मीर के स्थानीय आतंकियों को शामिल किया गया है. इस संगठन की सोशल मीडिया में मौजूदगी है और वहां से ही ये अपनी ब्रैंडिंग करने में जुटा रहता है. जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद से ही इस संगठन को तैयार किया गया, जिसके बाद इसने हमले करने शुरू किए हैं. अबतक सुरक्षाबलों के काफिले पर हुए कुछ हमलों में इस संगठन का नाम आ चुका है, साथ ही अब बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमले की जिम्मेदारी भी इसने ले ली है.

गौरतलब है कि पिछले कुछ वक्त में जम्मू-कश्मीर में भारतीय जनता पार्टी के नेताओं या उनसे जुड़े लोगों पर आतंकी हमले बढ़े हैं. जून 2020 से अबतक ऐसे ही हमलों में आठ के करीब बीजेपी नेताओं की हत्या कर दी गई है. आपको बता दें कि सुरक्षाबलों द्वारा जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ अपने ऑपरेशन में तेजी लाई गई है, यही कारण है कि आतंकी संगठन बौखला गए हैं. इसी वजह से आतंकी बार-बार सुरक्षाबलों और पब्लिक फिगर को निशाना बनाने की कोशिश कर रहे हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button