‘ठाकरे’ ने पहले हफ्ते में कमाई इतनी रकम, कमाई थमने को ओर

पूरे हफ्ते यह फिल्म बॉक्स ऑफ़िस पर तीसरी पसंद बनी रही। 'उरी', 'मणिकर्णिका' के होते हुए यह फिल्म जैसे-तैसे कमाई कर रही है।

बाल ठाकरे की बायोपिक फ़िल्म ‘ठाकरे’ को जिस तरह की शुरुआत मिली थी, वैसा पहले हफ्ते का अंत नहीं हुआ है।

पहले हफ्ते में इसे कुल 31.60 करोड़ रुपए मिले हैं। शनिवार को दस करोड़ रुपए कमाने वाली फिल्म को गुरुवार को केवल 1.60 करोड़ रुपए मिले।

पूरे हफ्ते यह फिल्म बॉक्स ऑफ़िस पर तीसरी पसंद बनी रही। ‘उरी’, ‘मणिकर्णिका’ के होते हुए यह फिल्म जैसे-तैसे कमाई कर रही है।

बेहद कम बजट में बनी यह फिल्म, कंगना की ‘मणिकर्णिका’ के सामने रिलीज हुई थी। तगड़ी कॉम्पीटिशन के बावजूद इसने बड़ी रकम टिकट खिड़की पर वसूली।

पहले दिन इसकी कमाई केवल छह करोड़ रुपए थी। शनिवार को अच्छी उछाल के बाद इसने एक दिन में 10 करोड़ रुपए कमा लिए। संडे भी बढ़िया रहा और 6.90 करोड़ रुपए इसे मिले।

इस तरह वीकेंड की कमाई 22.90 करोड़ रुपए रही। फिर इसकी रफ्तार धीमी होती गई।

अभिजीत पानसे निर्देशित ठाकरे 25 जनवरी को हिंदी और मराठी भाषाओं में रिलीज़ की गई थी। मराठी फ़िल्म बेहतरीन कलेक्शन कर रही है।

‘ठाकरे’ में नवाज़उद्दीन सिद्दीक़ी ने बाला साहेब ठाकरे का किरदार निभाया है, जबकि अमृता राव ने उनकी पत्नी का।

फिल्म में बाल ठाकरे के एक कार्टूनिस्ट से शिव सेना सुप्रीमो बनने तक के सफ़र को दिखाया गया है। फ़िल्म में उनके वो तमाम फ़ैसले भी दिखाए गए हैं, जो विवादों में रहे हैं।

फ़िल्म को समीक्षकों की मिली-जुली प्रतिक्रिया मिली, मगर ठाकरे के रूप में नवाज़ की सभी ने तारीफ़ की है।

फ़िल्म का निर्माण शिव सेना के सांसद संजय राउत ने किया है। नवाज़उद्दीन की सोलो लीड रोल वाली फ़िल्मों में ये बेस्ट परफॉर्मेंस मानी जा रही है।

नवाज़उद्दीन इससे पहले ‘मंटो’ और ‘माउंटेन मैन’ दो बायोपिक्स कर चुके हैं।

मंटो, उर्दू साहित्य के चर्चित और विवादित लेखक सआदत हसन मंटो की ज़िंदगी पर आधारित थी, जिसे नंदिता दास ने डायरेक्ट किया था।

जबकि केतन मेहता निर्देशित ‘माउंटेन मैन’ दशरथ मांझी के जीवन पर आधिरत थी, जिसने पहाड़ काटकर रास्ता बनाया था।

 

Back to top button