38 साल की महिला को अपनी किडनी दे दुनिया को अलविदा कह जाएगा यह मासूम

चंडीगढ़ : महज 11 महीने के ब्रेनडेड बच्चे ने किडनी फेल होने की बीमारी से जूझ रही महिला की जान बचा ली है। अब इस बच्चे को सबसे कम उम्र का अंगदाता घोषित किया गया है। ये अंगदान चंडीगढ़ के परास्नातक चिकित्सा शिक्षा और शोध संस्थान में किया गया। अंगदान करने वाले 11 महीने के बच्चे का नाम प्रीतम था, वह चंडीगढ़ के सेक्टर 45 का रहने वाला था। बीते 6 जुलाई को वह खाट से नीचे गिर पड़ा था, जिसकी वजह से उसके सिर में कई गंभीर चोटें आईं थीं।

प्रीतम के परिजन उसे सेक्टर-32 के सरकारी मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल में लेकर आए थे। जहां प्राथमिक उपचार के बाद उसे चंडीगढ़ के परास्नातक चिकित्सा शिक्षा और शोध संस्थान में भेज दिया गया। हालांकि, इसके बाद बच्चे की हालत बिगड़ती चली गई और उसके माता-पिता गीता और लक्ष्मण पुन को बीते 7 जुलाई को बता दिया गया कि बच्चा अब ब्रेनडेड हो चुका है। बाद में परिजनों की अनुमति लेकर बच्चे की किडनी निकालकर पंजाब की 38 साल की महिला को प्रत्यारोपित कर दी गईं। प्रीतम के पिता 24 वर्षीय लक्ष्मण ने कहा, मैं बेटे को बचा नहीं सका। कम से कम उसके अंगों को दान करके मैं किसी अन्य की जिंदगी तो बचा ही सकता हूं।

Back to top button