छत्तीसगढ़

मुआवजा प्रभावितों को मिला फिर अश्वासन, एडीबी के अधिकारियों की लापरवाही से किसान परेशान

-सूरज गुप्ता

करगीरोड कोटा।

पिछले दो साल से बन रही रही एडीबी की सड़क में मुआवजा प्रकरण को निपटाने एवं प्रभावित लोगों से बातचित के लिए एडीबी विभाग द्वारा जनसुनवाई कैम्प आयोजित किया गया था, लेकिन किसानों की मानें तो इसका कोई मतलब नहीं रहा है। अधिकारी रटा-रटाया जवाब देकर कैम्प समाप्त कर चले गए। 106 करोड़ की लागत से बन रही रतनपुर कोटा लोरमी मार्ग पिछले दो वर्ष से निर्माणाधीन है।

-प्रभावितों को नहीं मिला मुआवजा

इस सड़क निर्माण में बहुत से किसानों की भूमि अधिग्रहित हुई है, लेकिन प्रभावित लोगों को आज तक इसका मुआवजा नहीं मिला कई बार विरोध-प्रदर्शन भी किया जा चुका, लेकिन सिर्फ आश्वासन ही हर बार मिला है।

-प्रक्रिया का हवाला दिया

बुधवार को कोटा के मंडी प्रंगण में धरमपुरा एवं रतनपुर रोड के पास के कई किसानों की जमीन सड़क निर्माण में गई है। जिसका पिछले साल से मुआवजा का प्रकरण चल रहा है। जिसके लिए अधिकारियों ने जनसुनवाई रखी गई थी। जिसमें एडीबी के अधिकारियों ने प्रक्रिया चल रही है कहते हुए पल्ला झाड़ लिया ।

-6 माह पहले हुई थी बैठक

छह माह पहले अमाली मोड के पास रतनपुर मार्ग पर चक्कजाम किया जाना था। जिसे प्रशासन ने देखते हुए आनन फानन में कोटा एसडीएम देवेन्द्र पटेल और एडीबी के इंजीनियर प्रवीण शुक्ला के साथ मुआवजा प्रभावित के साथ पीडब्लूडी रेस्ट हाउस में बैठक हुई थी।

-एसडीएम भी बदल गए

जिसमें एसडीएम और इंजीनियर ने चार माह के अंदर मुआवजा प्रकरण को क्लियर करने की बात कही थी। साथ ही मुआवजा मिलने का आश्वासन दिया था, लेकिन आज तक वह नहीं सुलझ पाया और एसडीएम भी बदल गए।

-किसानों का आरोप, हमें किया जा रहा गुमराह

मुआवजा प्रभावित लोगों ने एडीबी के अधिकारियों पर किसानों के प्रति लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए कहा कि हमारी सुनवाई नहीं हो रही है। हमें साल भर से घुमाया जा रहा है।

हमारी जमीन में पेड़ भी काट दिए गए हैं। हमसे किसी प्रकार से पूछा नहीं गया ना ही हमें कोई नोटिस दी गई और हमारी जमीन को अधिग्रहित कर लिया गया था।

-मामला नहीं सुलझा तो करेंगे चक्काजाम

कुछ दिनों में मुआवजा मिलने की बात कही गई थी, लेकिन आज तक मुआवजे का पता नहीं है। अधिकारी अपनी मनमानी कर रहे है। सड़क निर्माण भी ठीक नहीं हो रहा है। ऐसे में अब हम धरना-प्रदर्शन और चक्काजाम करने के लिए बाध्य है जिसकी जिम्मेदारी अधिकारियों की होगी ।

-ये हैं प्रभावित किसान

एडीबी सड़क निर्माण में प्रभावित त्रियुगी नरायण साहू, मोहनलाल वगैरह,सुनिता साहू, श्यामा देवी, सीमा देवी,गौतरहीन वगैरह, तिलाबाई, समारू, कन्हैया, मुन्नीलाल, राम, नंदराम, लीलाराम, मोहनलाल एवं कई किसान अपनी समस्या को लेकर जनसुनवाई में पहुंचे थे।

मुआवजा प्रभावितों को फिर मिला अश्वासन, एडीबी के अधिकारियों की लापरवाही से किसान परेशान
मुआवजा प्रभावितों को फिर मिला अश्वासन, एडीबी के अधिकारियों की लापरवाही से किसान परेशान
Summary
Review Date
Reviewed Item
मुआवजा प्रभावितों को मिला अश्वासन, एडीबी के अधिकारियों की लापरवाही से किसान परेशान
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags