छत्तीसगढ़

सूखा राहत की राशि कृषकों के खाते में 31 मार्च तक जमा करें, कलेक्टर हुए सख्त

खातों में त्रुटि होने के कारण जमा होने से शेष रह गई राशि के प्रकरणों की समीक्षा की

राजनांदगांव : कलेक्टर भीम सिंह ने खातों में त्रुटि होने के कारण सूखा राहत की राशि जमा होने से शेष रह गये सभी किसानों के खातों में 31 मार्च 2018 तक अनिवार्य रूप से सूखा राहत की राशि जमा कराने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर भीम सिंह ने सभी प्रक्रियाओं को पूरी कर निर्धारित समयावधि में किसानों के खातों में जमा कराने के निर्देश दिए है। सिंह मंगलवार को कलेक्टोरेट सभाकक्ष में राजस्व एवं बैंक अधिकारियों की बैठक लेकर उक्ताशय के निर्देश दिए है।

इस दौरान उन्होंने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिले के सभी राजस्व अनुविभागीय एवं तहसीलदारों से इस कार्य के संबंध में जानकारी ली। कलेक्टर सिंह ने खैरागढ़ तहसील में इस कार्य अपेक्षित प्रगति नहीं आने पर नाराजगी जताते हुए तहसील खैरागढ़ को कारण बताओ नोटिस जारी करने में निर्देश दिए। इसके अलावा स्टेट बैंक के जिला समन्वयक नरेश कोटगले को हितग्राहियों के खाते में राशि जमा कराने हेतु राजस्व अधिकारियों को समय पर सूची उपलब्ध नहीं कराने एवं अपने कार्यों का सही तरीके से निष्पादन नहीं करने पर उनके विरूद्ध कार्रवाई हेतु पत्र लिखने के निर्देश दिए। बैठक में अपर कलेक्टर ओंकार यदु विशेष रूप से उपस्थित थे।

बैठक में कलेक्टर ने वीडियों कान्फ्रेसिंग के माध्यम से सभी एसडीएम एवं तहसीलदारों से प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने इस कार्य में आने वाली परेशानियों के संबंध में राजस्व एवं बैंक अधिकारियों से जानकारी ली। भीम सिंह ने इस कार्य को निर्धारित समयावधि में पूरा हेतु निरंतर मॉनिटरिंग के लिए पटवारियों की भी ड्यूटी लगाने के निर्देश दिए। इसके साथ ही लीड बैंक प्रबंधक को इस कार्य के लिए बैंकों के फील्ड अधिकारियों की भी ड्यूटी लगाने के निर्देश दिए।

कलेक्टर ने कहा कि यह कार्य किसानों के हितों से जुड़ा हुआ है। उन्होंने इस कार्य को पूरी गंभीरता के साथ लेते हुए 31 मार्च तक जिले के शेष सभी के खातों में सूखा राहत जमा करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने आगामी बैठकों में सभी संबधित बैंक अधिकारियों की भी उपस्थिति सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए। इसके अलावा उन्होंने इसकी समीक्षा हेतु प्रत्येक तीन दिनों में बैठक आयोजित करने के निर्देश भी दिए।

Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.