नागपुर आर्किटेक्ट के स्टूडेंट कोंडागांव में सीख रहे बांस झोपड़ी बनाने की कला, 10 साल तक रहेगा मजबूत

कोंडागांव।

ग्रामीण इलाकों में अक्सर आपको झोपड़ियां ही नजर आएंगी। किसी ने मिट्टी के सहारे तो किसी ने बांस के सहारे अपनी झोपड़ी को संवारा है। अब इसी कला से रूबरू होने के लिए नागपुर में आर्किटेक्ट की पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट्स का दल कांडागांव आया हुआ है।

बांधा तालाब के पास वे बांस से झोपड़ी बनाने की कला से मुखातिब हो रहे हैं। इस प्रोजेक्ट को ऋषभ जैन और निशा ने बनाया है जो खुद एक आर्किटेक्ट हैं। उन्होंने कई भवनों की डिजाइनिंग की है, लेकिन बस्तर में बनने वाली झोपड़ी जैसा आनंद और इसकी खासियत को देखते हुए उन्हें बांस की झोपड़ी बनाने का निर्णय लिया है। निशा जैन ने बताया कि इस झोपड़ी की खासियत है कि इसे 10 सालों तक कुछ नहीं होगा। इसका खासतौर पर नाव शेप वाला डिजाइन इसे अलहदा बनाएगा।

आपको बता दें कि प्रोजेक्ट में बनने वाले स्ट्रक्चर को देखने के लिए आइडिया कॉलेज ऑफ आर्किटेक्ट के छात्र पहुंचे हुए है, जो न केवल इसकी प्रकिया को देख रहे हैं बल्कि इसके निर्माण में सहयोग भी कर रहे हैं। साथ ही स्थानीय कलाकार जो उन्हें सिखा रहे हैं, वे उनकी हर बातों को ध्यान से सुनकर समझ रहे हैं।

Back to top button