बैंक अधिकरी ने ग्राहकों के खाते से निकाले 10 लाख रुपए, गिरफ्तार

रायपुर।

दोस्त के परिजनों के बैंक अकाउंट में सेंध लगाकर 10 लाख 13 हजार रुपए पार करने का मामला सामने आया है। पैसा किसी और ने नहीं, बल्कि बैंककर्मी ने ही निकाला। पीड़ित की शिकायत पर सिटी कोतवाली पुलिस ने बैंककर्मी के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज कर लिया है। फिलहाल आरोपी की गिरफ्तारी नहीं की गई है।

– इंडसइंड बैंक एमजी रोड शाखा में कार्यरत

सिटी कोतवाली थाना प्रभारी शिवानंद तिवारी ने बताया कि मकान नंबर 11 आरडीए कालोनी नेहरू नगर निवासी अब्दुल माजिद खान (53) ने थाने में शिकायत दर्ज कराई कि उसके पुत्र मोहम्मद इफरान खान का दोस्त शहीद हमीद नगर निवासी शेख मुख्तियार उर्फ सोनू उर्फ आफताब रिजवी इंडसइंड बैंक एमजी रोड शाखा में कार्यरत है।

उसने धोखाधड़ी करते हुए उसकी पत्नी शाहिस्ता बेगम, पुत्र इरफान खान, इमरान खान और पुत्री जीनत आफरोज के नाम पर इंडसइंड बैंक एवं एक्सिस बैंक में खाता खुलवाया।

– रिश्तेदारों के खाते में ट्रांसफर कर बाद में आहरित कर लिया

इसके बाद शेख मुख्तियार ने 20 अप्रैल 2017 से 8 जनवरी 2018 के बीच उनके बैंक खाते से आइएमपीएस एवं नेट मोबाइल बैंकिंग और एटीएम कार्ड के माध्यम से 10 लाख 13 हजार 217 रुपये अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के खाते में ट्रांसफर कर बाद में आहरित कर लिया।

इसकी जानकारी जब अब्दुल माजिद खान को लगी तो उन्होंने बैंककर्मी शेख मुख्तियार से पूछताछ की तो उसने पैसा आहरित करने की बात स्वीकार कर पैसा लौटाने का वादा किया। यहीं नहीं 21 जुलाई 2018 तक पूरा पैसा वापस करने का लिखित इकरारानामा भी दिया, लेकिन जब रकम लौटाने का समय आया तो टालमटोल करने लगा।

-नहीं दिया ग्राहक को एटीएम

खुद करता रहा इस्तेमाल पुलिस के मुताबिक ठगी के शिकार अब्दुल माजिद खान की बेटी जीनत अफरोज के नाम पर बैंक खाता खुलवाने के बाद आरोपी बैंककर्मी ने उसका एटीएम कार्ड समेत अन्य सामग्री खुद अपने पास रख ली। बाद में उसने दोनो बेटे व पत्नी के खाते में जमा राशि को बेटी के खाते में आइएमपीएस एवं नेट मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से जमा करा दिया। फिर जीनत अफरोज के एटीएम कार्ड से पूरी रकम धीरे-धीरे आहरित कर लिया।

Back to top button