अशुभ ग्रहों की शीघ्र शांति एवं अनुकूलता( शुभता) हेतु सबसे अच्छा उपाय होता है:-

आचार्य पं. श्रीकान्त पटैरिया (ज्योतिष विशेषज्ञ) छतरपुर मध्यप्रदेश, किसी भी प्रकार की समस्या समाधान के लिए सम्पर्क कर सकते हो, सम्पर्क सूत्र:- 9131366453

उनकें मंत्रों का अनुष्ठान ,जिसमें उनके बीज , वैदिक या तांत्रिक मंत्रों का जप एवं हवन की प्रक्रिया शामिल होती है एवं सभी 9 ग्रहों के हवन के लिए अलग – अलग लकड़ी का प्रयोग होता है तो आइएं आज जानते है सभी ग्रहों के प्रचलित मंत्र एवं अनुष्ठान की पूरी प्रक्रिया-

1. सूर्य ग्रह – ॐ घृणि सूर्याय नमः , मदार की लकड़ी से हवन , मंत्र अनुष्ठान जप संख्या – 7000 एवं दशांश हवन ।
2. चन्द्र ग्रह – ॐ सों सोमाय नमः , पलाश की लकड़ी से हवन , मंत्र अनुष्ठान जप संख्या – 11000 एवं दशांश हवन ।
3. मंगल ग्रह – ॐ अं अंगारकाय नमः , खैर की लकड़ी से हवन , मंत्र अनुष्ठान जप संख्या – 10000 एवं दशांश हवन ।
4. बुध ग्रह – ॐ बुं बुधाय नमः , अपामार्ग की लकड़ी से हवन , मंत्र अनुष्ठान जप संख्य – 9000 एवं दशांश हवन ।
5. बृहस्पति – ॐ बृं बृहस्पतएं नमः , पीपल की लकड़ी से हवन , मंत्र अनुष्ठान जप संख्या – 19000 एवं दशांश हवन।
6. शुक्र ग्रह – ॐ शुं शुक्राय नमः , गूलर की लकड़ी से हवन , मंत्र अनुष्ठान जप संख्या – 16000 एवं दशांश हवन ।
7. शनि ग्रह – ॐ शं शनैश्चराएं नमः , शमी की लकड़ी से हवन , मंत्र अनुष्ठान जप संख्या – 23000 एवं दशांश हवन ।
8. राहु ग्रह – ॐ रां राहवे नमः , दूर्वा (दूब) की लकड़ी से हवन , मंत्र अनुष्ठान जप संख्या – 18000 एवं दशांश हवन ।
9. केतु ग्रह – ॐ कें केतवे नमः , कुश की लकड़ी से हवन , मंत्र अनुष्ठान जप संख्या – 17000 एवं दशांश हवन ।
यदि संक्षिप्त में सभी ग्रहों के जप एवं हवन स्वयं करना चाहते है तो मंत्र की शुद्धता का विशेष ध्यान रखते हुए पूरी प्रक्रिया क्रमश :

किसी भी प्रकार की समस्या समाधान के लिए आचार्य पं. श्रीकान्त पटैरिया (ज्योतिष विशेषज्ञ) जी से सीधे संपर्क करें = 9131366453

cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button