बड़ी खबरराष्ट्रीय

हज यात्रा पर पड़ रहा कोरोना का काला साया, 222 साल में पहली बार हो सकती है रद्द

बड़ी संख्या में लोगों ने फॉर्म वापसी के लिए आवेदन किया

जयपुर: इस बार होने वाली हज यात्रा पर कोरोना का काला साया पड़ रहा है. अगर इस बार हज रद्द होता है तो यह 222 साल में पहली बार होगा. सऊदी अरब के हज मंत्रालय के अनुसार 1932 में किंगडम की स्थापना के बाद से पहली बार हज का सीजन रद्द करने पर सऊदी अरब के अधिकारी विचार कर रहे हैं. इस संबंध में सऊदी सरकार 15 जून तक फैसला ले सकती है.

बड़ी संख्या में लोगों ने फॉर्म वापसी के लिए आवेदन किया:


सऊदी अरब में एक लाख से अधिक कोरोना संक्रमण के मामले सामने आ चुके हैं. ऐसे में मक्का-मदीना में रहने की तैयारियां नहीं हो पा रही है. इसी के चलते बड़ी संख्या में लोगों ने फॉर्म वापसी के लिए आवेदन किया है. भारतीय हज कमेटी भी कह चुकी है कि जो लोग खुद ही यात्रा कैंसिल करना चाहते हैं उन्हें पूरी जमा राशि लौटा दी जाएगी. हज कमेटी ने यह भी कहा कि अब तक सऊदी अरब के अफसरों की तरफ से कोई भी जानकारी नहीं दी गई है.

यात्रा में दुनियाभर से 20 लाख लोग सऊदी अरब पहुंचते हैं:


जुलाई के आखिर में निर्धारित हज यात्रा दुनिया में होने वाली सबसे बड़ी धार्मिक सभाओं में से एक है. इस यात्रा में दुनियाभर से 20 लाख लोग सऊदी अरब पहुंचते हैं. ऐसे में यह भी माना जा रहा है कि सऊदी अरब हज के लिए आने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या में भारी कटौती पर भी विचार कर सकता है. इससे पहले हज यात्रा 1798 में रद्द की गई थी.

Tags
Back to top button