नेताओं और प्रत्याशियों को सुरक्षा देना बड़ी चुनौती, फोर्स और पुलिस पर 35 करोड़ खर्च

रायपुर।

नक्सल प्रभावित छत्तीगसढ़ में शांतिपूर्ण विद्यानसभा चुनाव कराना और चुनाव के दौरान नेताओं और प्रत्याशियों को सुरक्षा देना बड़ी चुनौती है।

विद्यानसभा चुनाव कराने के लिए निर्वाचन आयोग में तीन आइएएस मुख्य निर्वाचन पदाद्यिकारी(सीइओ) सुब्रत साहू, डिप्टी सीइओ समीर विश्नोई और एम भारतीदासन सहित 100 से ज्यादा अद्यिकारियों-कर्मचारियों की टीम दिन-रात चुनावी तैयारी में जुटी है।

-35 हजार जवानों को किया जाएगा तैनात

वहीं, चुनाव प्रचार के लिए आने वाले नेताओं और उम्मीदवारों की सुरक्षा के लिए 35 हजार जवानों को तैनात किया जाएगा। खास बात यह है कि नक्सल प्रभावित बस्तर, कांकेर और राजनांदगांव में अतिरिक्त सुरक्षा के लिए पैरा मिलिट्री फोर्स के पांच हजार जवानों को अलग से तैनात किया जाएगा। बस्तर में सुरक्षा व्यवस्था में सीआरपीएफ, बीएसएफ, आइटीबीपी और एसएसबी की 55 बटालियन तैनात हैं।

-ये मिलेगी सुविधा

निर्वाचन आयोग के अद्यिकारियों ने बताया कि विद्यानसभा चुनाव में इस बार फोर्स और पुलिस पर 35 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इसमें जवानों के भोजन, ठहरने के साथ-साथ नक्सल प्रभावित इलाकों में मूवमेंट के दौरान खर्च किया जाएगा। बताया जा रहा है कि नक्सल इलाकों में सुरक्षा पर सबसे ज्यादा खर्च होगा।

वर्ष 2013 के विद्यानसभा चुनाव से पहले नक्सलियों ने कांग्रेस के 35 नेताओं की हत्या कर दी थी। ऐसे में नेताओं के मूवमेंट के लिए पुलिस ने विशेष प्लान तैयार किया है। बड़े नेताओं को सभाओं और दौरे से पहले आइजी और एसपी स्तर के अद्यिकारी को जानकारी देनी होगी।

बिना जानकारी के बड़ी सभा-सम्मेलन करने वालों पर कार्रवाई भी हो सकती है। निर्वाचन आयोग के अद्यिकारियों ने बताया कि सभी राजनीतिक दलों के स्टार प्रचारकों की सूची तैयार की जाएगी। स्टार प्रचारकों की सुरक्षा का अलग प्लान तैयार किया जाएगा।

मोदी-राहुल की सुरक्षा के लिए बनेगा विशेष प्लान

निर्वाचन आयोग के अद्यिकारियों ने बताया कि प्रद्यानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांद्यी और केंद्रीय मंत्रियों की सुरक्षा के लिए गोपनीय प्लान तैयार किया जाएगा। अद्यिकारियों ने बताया कि सुरक्षा कारणों से इसका खुलासा नहीं किया जा सकता है। पोलिंग पार्टियों के साथ सुरक्षा बल के अद्यिकारियों और जिला बल के जवानों की टीम भी भेजी जाएगी।

चुनाव में खर्च होंगे दो अरब रुपये

विद्यानसभा चुनाव में सरकार के करीब दो अरब रुपये खर्च होने का अनुमान लगाया जा रहा है। मुख्य निर्वाचन पदाद्यिकारी कार्यालय ने 175.64 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान भेजा है। सुरक्षा व्यवस्था पर करीब 35 करोड़ खर्च होंगे। राज्य सरकार ने चुनाव के लिए मुख्य बजट में 175.64 करोड़ और अनुपूरक बजट में 25 करोड़ रुपये का प्रावद्यान किया है। निर्वाचन आयोग के अद्यिकारियों ने बताया कि अब तक चुनावी तैयारी में करीब 90 करोड़ रुपये खर्च हो चुके हैं।

90 विद्यानसभा में 986 प्रत्याशी थे मैदान में

छत्तीसगढ़ की 90 विद्यानसभा सीट पर 986 उम्मीदवार मैदान में थे। चुनाव में 45 पार्टियों ने अपने उम्मीदवार उतारे थे। इसमें छह राष्ट्रीय दल, पांच क्षेत्रीय दल और अन्य गैर मान्यता प्राप्त दल के उम्मीदवार थे। वर्ष 2013 के विद्यानसभा चुनाव में 986 में से 796 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई थी।

Tags
Back to top button