शहर 400 हाई रेजोल्यूशन कैमरों की निगरानी में होगा

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में आने वाले दिनों में पूरा शहर 400 हाई रेजोल्यूशन कैमरों की निगरानी में होगा


शहर 400 हाई रेजोल्यूशन कैमरों की निगरानी में होगा

रायपुर : छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में आने वाले दिनों में पूरा शहर 400 हाई रेजोल्यूशन कैमरों की निगरानी में होगा. रायपुर स्मार्ट सिटी के सबसे बड़े प्रोजेक्ट में शामिल इंटेलीजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम यानी आईटीएमएस के लिए कंपनी से करार हो चुका है. वर्क ऑर्डर की तारीख से 8 महीने के अंदर कंपनी अपना काम शुरू कर देगी.

आपको बता दें कि राजधानी में कुछ महीनों बाद पूरा ट्रैफिक सिस्टम कैमरों से कंट्रोल किया जाएगा. स्मार्ट और सिक्योर सिटी के लिए यहां आईटीएमएस प्रोजेक्ट लाया जा रहा है, जिसका सर्वे भी शुरू हो चुका है. इस दौरान शहर में कैमरे कहां कहां लगाए जाएंगे, इसका निरीक्षण किया जा रहा है. ताकी सड़क से गुजरने वाला हर व्यक्ति उस में कवर हो जाए.

वहीं 157 करोड़ रुपए के इस भारी-भरकम प्रोजेक्ट का सबसे बड़ा फायदा शहर के ट्रैफिक सिस्टम को सुधारने में होगा. कैमरे इतने हाईटेक होंगे कि कोई भी वाहन चालक ट्रैफिक नियम तोड़कर आगे नहीं बढ़ सकेगा. ट्रैफिक नियम तोड़ने पर कंट्रोल रूम में बीप या अलार्म लाइट इशारा करने लगेगी. साथ ही वहां स्क्रीन पर साफ नजर आ जाएगा कि किसने, कहां और कैसे ट्रैफिक नियम तोड़ा है.

स्मार्ट सिटी के डायरेक्टर रजत बंसल ने कहा कि कैमरों के अलावा स्पीड डिटेक्टर भी लगाया जाएगा ताकी तेज रफ्तार पर लगाम लगायी जा सके. ये सिस्टम सड़क हादसे रोकने और सड़क से भागने वाले अपराधियों को पकड़ने में भी मददगार साबित होगा. आईटीएमएस का यह प्रोजेक्ट रायपुर स्मार्ट सिटी कंपनी, जिला प्रशासन और जिला पुलिस ने संयुक्त रूप से तैयार किया है.

लिहाजा, ऐसा दावा है कि आईटीएमएस ट्रैफिक जवानों की कमी की भरपाई तो करेगा ही, साथ ही पुलिस तंत्र को भी मजबूत करेगा. इसलिए पुलिस और जिला प्रशासन की टीम भी कंपनी के साथ सर्वे को लेकर काम कर रही है.

रिंग रोड के चौराहों पर दूसरे जिलों से जोड़ने वाले सभी एंट्रेंस पर स्पीड डिटेक्टर लगाए जाएंगे. ये स्पीड लिमिट से ज्यादा गति से चलने वाली वाहनों की रिकॉर्डिंग की लाइव तस्वीर कंट्रोल रूम को भेजेगा. कंपनी इस सिस्टम को स्थापित करने के साथ ही इसे 5 साल तक मेंटेन भी करेगी. वहीं राजधानी की जनता को भी स्मार्ट सिटी के इस प्रोजेक्ट से ट्रैफिक व्यवस्था बेहतर होने की उम्मीद है.

advt
Back to top button