शीतलहर का कहर न्यूनतम पारा पहुंचा 8 पर, अगले चार दिनों तक कड़ाके की ठंड

अंकित मिंज

बिलासपुर।

मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि 20 व 21 दिसंबर को प्रदेश के सरगुजा और बिलासपुर जिले में शीतलहर चलेगी। कड़ाके की ठंड को देखते हुए प्रशासन को जरुरी कदम उठाने के लिए कहा गया है। गुरुवार को शहर का अधिकतम पारा 25 और न्यूनतम 8 डिसे दर्ज किया गया है।

इस सीजन में अब तक का सबसे कम तापमान है। वहीं अगले 4 दिनों तक 25 दिसंबर तक न्यूनतम पारा 7 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम 25 डिसे के नीचे ही बना रह सकता है। वहीं जिले में विगत तीन दिनों से शीत लहर चल रही है। कड़ाके की ठंड के बाबजूद प्रशासन ने अभी तक स्कूली बच्चों का सुबह से लगने वाले स्कूलों का समय नहीं बढ़ाया है।

पेथाई तूफान के गुजर जाने के बाद गुरुवार की सुबह छाए घने कोहरे ने पूरे जिले को अपनी चपेट में ले लिया है। सुबह में कोहरे का ये आलम था कि दो से तीन मीटर दूर तक देख पाना संभव नहीं था।

साथ ही बह रही तेज हवा लोगों को सिहरा रही थी। स्कूल जाने वाले छात्र तो मजबूरन स्वेटर और जैकेट पहन कर निकले। लेकिन सुबह.सुबह मार्निंग वाक पर निकलने वाले जॉगर्स ने घर में ही रहने में भलाई समझी और चहारदिवारी के अंदर ही वर्जिश कर कोटा पूरा किया।

9 बजे के बाद जब धूंध छंटी तो ठंडी हवा के थपेड़ों ने लोगों को बुरा हाल कर दिया। हालंकि दिन भर खिली धूप ने राहत दी पर शाम सूरज ढ़लने के बाद ठंड ने फिर से तेवर दिखाने शुरु कर दिए।

चल रही शीतलहर को ध्यान में रखते हुए नगर निगम ने शहर के प्रमुख चौक-चौराहों नेहरु चौक, मंगला चौक, मुंगेली नाका, नूतन चौक, पुराना बस स्टैंड, राजीव गांधी चौक, देवकीनंदन चौक, समेत अन्य जगहों पर मेयर किशोर राय ने निगम के अधिकारियों और कर्मचारियों को अलाव के लिए लकड़ी की व्यवस्था करने का निर्देश दिए है।

रात में कलेक्टर ने रैनबसेरे के लोगों का जाना हाल

शहर में पड़ रही कड़ाके की ठंड को ध्यान में रखते हुए कलेक्टर पी दयानंद रात 10 बजे बस स्टैंड स्थित रैनबसेरे के निरीक्षण के लिए पहुंचे। इस दौरान उन्होंने अलाव के लिए लकड़ी की कमी नहीं होने का आदेश देते हुए अलाव सुबह तक जलाए रखने का निर्देश दिया। साथ ही वहां रह रहे लोगों से बातचीत कर हरसंभव सहयोग का आश्वासन दिया।

advt
Back to top button