बोडला विकासखंड के संवेदनशील ग्राम पंचायतों में पहुंचकर कलेक्टर ने सुनी समस्याएं

- हिमांशु सिंह ठाकुर

कवर्धा: कबीरधाम जिले के आदिवासी बैगा बाहुल्य बोडला विकासखंड के सुदूर एवं दुर्गम पहाड़ियों पर स्थित अति संवेदनशील ग्राम पंचायत बोक्करखार, कबरीपथरा, शम्भूपीपर, महलीघाट राजाढार और चिल्फी सहित विभिन्न ग्राम पंचायतों का कलेक्टर अवनीश कुमार शरण ने आज सघन दौरा किया। कलेक्टर ने अति संवेदनशील ग्राम पंचायत बोक्करखार, कबरीपथरा, शम्भूपीपर में पहुंचकर ग्रामीणों और किसानों से चर्चा की और उनकी समस्याएं भी सुनी।

कलेक्टर ने ग्रामीणों के मांग पर शम्भूपीपर प्राथमिक स्कूल में एक शिक्षक व्यवस्था करने के लिए जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। कलेक्टर ने शम्भूपीपर ग्राम पंचायत, प्राथमिक एवं माध्यमिक स्कूल का निरीक्षण किया। कलेक्टर ने छत्तीसगढ़ खाद्यान्न योजना के संचालित उचित मूल्य दुकान, प्रचलित राशन कार्ड, सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना, पंचायत एवं ग्रामीण विकास के काम-काज और महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना के तहत स्वीकृत कार्यों की जानकारी ली।

ग्राम सचिव ने बताया कि सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना के तहत संचालित विभिन्न योजनाओं के पात्र हितग्राहियों को उनका लाभ दिया जा रहा है। यहां बताया गया कि सामाजिक सुरक्षा पेंशन के 13 सुखद सहारा पेंशन के 14, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन के तीन और इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धा अवस्था पेंशन के 27 हितग्राहियों को लाभ पहुंचाया जा रहा है। कलेक्टर ने बोक्करखार संचालित आदिवासी कन्या आश्रम उप स्वास्थ्य केन्द्र का निरीक्षण किया।

कलेक्टर अवनीश कुमार शरण ने यहां बोक्क्रखार, शम्भूपीपर महली, कबरीपथरा सहित आस-पास के अन्य ग्राम पंचायतों के निवासियों के लिए बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं हेतु संचालित बाईक एम्बुलेंस के बारे में ग्रामीणों एवं महिलाओं से जानकारी ली। ग्रामीणों ने बताया कि बोक्करखार उप स्वास्थ्य केन्द्र में बाईक एम्बुलेंस की सुविधा शुरू होने से आस-पास के ग्रामीणों को चिकित्सा का लाभ मिल रहा है। कलेक्टर ने आदिवासी कन्या आश्रम का निरीक्षण करते हुए जनपद सीईओ को बच्चों के लिए खेल सामग्रा उपलब्ध कराने के लिए निर्देश दिए।

कलेक्टर ने अति संवेदशील ग्राम पंचायत क्षेत्रों में बन रहे सड़क निर्माण कार्यों का अवलोकन भी किया। कलेक्टर ने चिल्फी में संचालित कन्या आश्रम प्री मेट्रिक बाल छात्रावास का निरीक्षण किया और वहां उपलब्ध संसाधनों तथा खामियों की जानकारी ली। कलेक्टर ने प्री मेट्रिक कन्या आश्रम में विद्यार्थियों की सुविधाओं के लिए अतिरिक्त पंखे लगाने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने दोनों अधीक्षकों को आश्रम छात्रावास में विशेष साफ-सफाई व्यवस्था और भोजन व्यवस्था समय पर करने के निर्देश दिए।

उन्होंने अधीक्षकों को मुख्यालयों में रहने के निर्देश दिए। कलेक्टर शरण ने चिल्फी में संचालित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र राजाढार में संचालित उप स्वास्थ्य केन्द्र और प्राथमिक स्कूल का निरीक्षण किया। प्राथमिक स्कूल का निरीक्षण करते हुए कलेक्टर शरण ने बच्चों को मिलने वाली मध्यान भोजन की गुणवत्ता की जांच करते हुए दाल चावल और सब्जी का स्वाद भी लिया।

निरीक्षण के दौरान बोडला अनुविभागीय अधिकारी अभिषेक अग्रवाल, तहसीलदार मधुहर्ष, लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन अभियंता सत, जनपद पंचायत के सीईओ भगत सहित लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, आदिम जाति विकास विभाग, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे।

Back to top button