पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी के बयान पर कांग्रेस का पलटवार

रायपुर: पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी के बयान पर कांग्रेस ने पलटवार किया। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि भाजपा और भाजपा की बी टीम मिलकर भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का सामना नहीं कर पा रही है। भूपेश बघेल के नेतृत्व में विधानसभा चुनाव में भाजपा और भाजपा के बी टीम को करारी मात मिली है और आने वाले दिनों में भी करारी मात मिलते रहेगी।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के तानाशाही रवैया के कारण ही छत्तीसगढ़ की जनता ने उन्हें नकार दिया और अब उसी राह पर भाजपा और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी भी चल रहे है। छत्तीसगढ़ में 15 साल तक पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह की तानाशाही सरकार काबिज थी जिसे जनता ने उखाड़ कर फेंक दिया।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सभी वर्गों के साथ चर्चा कर मुद्दों पर नीतियां बनाने की बात कही तो भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी के पेट में दर्द क्यों हो रहा है ? भाजपा के नेता धारा 370 और 35ए पर चर्चा करने से क्यों घबरा रहे है? कश्मीर के मसले पर आरएसएस और भाजपा देश की जनता को निरंतर गुमराह कर रही है।

धारा 370 और 35ए हटाने के तौरतरीकों का विरोध कांग्रेस ने किया है। देशहित के मुद्दों पर मनमानी करने वाले भाजपा के नेता जनता से संवाद करने से भागते क्यों है? संवैधानिक रास्ते में चलने में भाजपा को परेशानी क्यों है? भाजपा के नेता मन की बात करते हैं और मनमानी करते हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जन की बात सुनते हैं और जनकल्याणकारी कार्य करते है। भाजपा की केंद्र सरकार की मनमानी का ही नतीजा है, भारत की आर्थिक स्थिति विश्व में पांचवें नंबर से नीचे गिरकर सातवें नंबर पर आ गई है। भाजपा तानाशाही रवैया अपनाना छोड़े जनता से संवाद स्थापित करे।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी को यह नहीं भूलना चाहिए कि छत्तीसगढ़ में अजीत जोगी की पहचान कांग्रेस की देन है। राज्यसभा से लेकर मुख्यमंत्री का ताज कांग्रेस की देन है। कांग्रेस अजीत जोगी जी को पहचान नहीं देती तो अजीत जोगी के बंगले में जो पूर्व मुख्यमंत्री का तमगा लटका हुआ है वहाँ पर सेवानिवृत्त अधिकारी लिखा हुआ होता। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम के बारे में अजीत जोगी ने टिप्पणी कर निम्न स्तर और ओछी राजनीति की है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम आदिवासी समाज का प्रतिनिधित्व करते हैं।

कोंडागांव से विधायक हैं और आदिवासी समाज का उन्हें पर्याप्त समर्थन है लेकिन अजीत जोगी जिनकी जाति अभी तक स्पष्ट नहीं है कि कौन से जाति से आते है? उसने एक आदिवासी नेता के ऊपर स्तरहीन टिप्पणी कर पूरे आदिवासी समाज का अपमान किया है। अजीत जोगी जी के बयान में घमंड झलक रहे, जोगी जी आदिवासियों को डराना धमकाना बंद करें। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार है। सर्वहारा वर्ग की सरकार है। आदिवासियों के साथ खड़ी होने वाली सरकार है। अजीत जोगी के धमकियों से आदिवासी समाज नहीं डरेगा। पूरी सरकार उनके साथ खड़ी हुई है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि विधानसभा चुनाव के पहले भी तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के खिलाफ भी राजनांदगांव से पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी जी ने चुनाव लड़ने का ऐलान भी किये थे और ठीक चुनाव से पहले मैदान छोड़कर भाग गए थे। अजीत जोगी जी चुनौती देने से बाज आये, छत्तीसगढ़ की जनता भाजपा और भाजपा की बी टीम के नेताओं के चाल चरित्र चेहरे को पहचान गयी है।

Tags
Back to top button