स्कूल मैदान में पार्षद ने बिना अनुमति के डलवा दिए पत्थर, अब बच्चे खेलने को मोहताज

-अमृत लाल साहू

भाटापारा।

बच्चों को अच्छा खेल मैदान मिले यह सोचकर पार्षद ने रोड चौड़ीकरण में निकले पत्थर स्कूल मैदान में डलवा दिए और भूल गया जिसकी खामियाजा बच्चों को खेल से दूर होकर भुगतना पड़ रहा है ।

इस स्कूल के बच्चे खेल मैदान की मार तो झेल रहे हैं। साथ ही स्कूल में शिक्षकों की कमी का भी। क्योंकि इस स्कूल में कक्षा नवमीं से ग्यारहवीं तक कि क्लास है तथा कुल विद्यार्थी 207 है, लेकिन शिक्षक केवल पांच।

कक्षा ग्यारहवीं में विषय के शिक्षक नहीं होने की वजह से उपस्थित शिक्षक बच्चों को गाइड व कुंजियों से ही पढ़ाया करवाते है।

-पत्थर डलवाने के लिए मुझसे कोई बात नहीं हुई

स्कूल प्रिंसिपल श्यामला सोनवानी का कहना है कि पार्षद के द्वारा रोड चौड़ीकरण में निकले गए पत्थर को स्कूल खेल मैदान में डलवाया गया है। पत्थर डलवाने के लिए मुझसे कोई बात नहीं हुई है किसकी अनुमति से डलवाया गया है यह जानकारी नहीं है।

-एक-दूसरे पर लगा रहे आरोप

स्कूल प्रिंसिपल और पार्षद एक दुसरे पर आरोप लगाने में पीछे नहीं हट रहे हैं तो वहीं शासन भी बच्चों के भविष्य को अंधकार में झोंकने में पीछे नहीं है। क्योंकि स्कूल उन्नयन कर वाहवाही बटोरने में लगी है लेकिन शिक्षक की व्यवस्था करना भूल गई है।

-काम कराने की अनुमति ली गई गई थी

समतलीकरण के लिए शाला विकास समिति व पार्षद के द्वारा काम करवाया गया था काम कराने की अनुमति ली गई गई थी। वैसे मैदान में पत्थर तो नहीं है मान लो होगा उसे भी एक सप्ताह में साफ करवा दिया जाएगा ।

Back to top button