निर्वाचन की विश्वसनीयता, पारदर्शिता और निष्पक्षता ही अधिकारी की योग्यता की कसौटी है – सुब्रत साहू

लोकसभा निर्वाचन पूर्व रायपुर में जुटे 11 लोकसभा क्षेत्र के जिला निर्वाचन अधिकारी

रायपुर: मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने कहा है कि निर्वाचन की विश्वसनीयता, निष्पक्षता और पारदर्शिता बनाये रखना ही निर्वाचन अधिकारी की योग्यता की कसौटी है। उन्होंने कहा कि जिला निर्वाचन अधिकारी के हर काम में यह प्रदर्शित होना चाहिए। साहू लोकसभा निर्वाचन-2019 की तैयारियों के सिलसिले में प्रदेश के सभी जिलोें के कलेक्टर्स एवं जिला निर्वाचन अधिकारियों के दो दिवसीय सर्टिफिकेशन कोर्स के शुभारंभ अक्सर पर संबोधित कर रहे थे।

इस दौरान संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी समीर विश्नोई, पद्मिनी भोई साहू तथा डॉ के आर आर सिंह सहित मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे। नवीन विश्राम भवन के ऑडिटोरियम में आयोजित सर्टिफिकेशन कोर्स के दो दिवसीय कार्यक्रम में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों को विधानसभा निर्वाचन में बेहतर क्रियान्वयन के लिए बधाई दी। उन्होंने लोकसभा निर्वाचन- 2019 में और भी बेहतर और सुगम निर्वाचन की दिशा में कार्य करने का आह्वान किया।

उन्होंने बताया कि इन दो दिनों में प्रदेश के सभी 11 लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों के रिटर्निंग अधिकारियों सहित जिला निर्वाचन अधिकारियों को सुगम, निष्पक्ष और स्वतंत्र निर्वाचन के लिए आवश्यक जानकारियाँ दी जा रही हैं। इस दौरान जिला निर्वाचन अधिकारी और रिटर्रिंग अधिकारी के दायित्वों, मतदाता सूची का पुनरीक्षण, आदर्श आचरण संहिता और अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर जानकारी दी गई। प्रशिक्षण कार्यक्रम के पहले दिन 7 सत्रों के दौरान विषय विशेषज्ञों तथा मास्टर ट्रेनरों ने निर्वाचन संबंधी विभिन्न विषयों पर प्रस्तुतिकरण दिया। इस दौरान प्रश्नोत्तरी तथा व्यवहारिक चुनौतियों को लेकर पर समस्याओं का समाधान किया गया। मास्टर ट्रेनर प्रणव सिंह ने जिला निर्वाचन अधिकारियों के दायित्वों पर प्रकाश डाला।

उन्होंने निर्वाचन के दौरान नामांकन प्रक्रिया, नामांकन की संवीक्षा, अभ्यर्थी की अयोग्यता समेत अन्य विषयों पर बातें रखीं। नेशनल लेवल मास्टर ट्रेनर ए.के.सेतिया ने आदर्श आचरण संहिता के पालन तथा इस दौरान रखी जाने वाली सावधानियों के संबंध में प्रकाश डाला। उन्होंने निर्वाचन व्यय तथा निगरानी की बारीकियों को साझा किया। उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी व मास्टर ट्रेनर श्रीकांत वर्मा ने मतदाता सूची तथा इस सूची को अद्यतन करने, कार्यबल तैनाती, सुरक्षा बल की तैनाती के संबंध में जानकारी दी। मास्टर ट्रेनर पुलक भट्टाचार्य ने निर्वाचन तैयारियों, मतदान दल, मतदान केंद्रों की तैयारियों, रिज़र्व पार्टी सहित अन्य तैयारियों पर विस्तारपूर्वक चर्चा की। मास्टर ट्रेनर मनीष मिश्रा ने निर्वाचन पूर्व प्रशिक्षणों के महत्व पर प्रकाश डाला और आगामी दिनों में प्रदेश तथा जिला स्तर पर होने वाले विभिन्न प्रशिक्षणों की जानकारी भी दी।

पहले दिन के प्रशिक्षण उपरांत जिला निर्वाचन अधिकारियों के लियेभारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार सर्टिफिकेशन कोर्स पर आधारित परीक्षा आयोजित की गई। दूसरे दिन अर्थात 13फरवरी को भी प्रशिक्षण उपरांत द्वितीय चरण की परीक्षा आयोजित की जाएगी। प्रशिक्षण के दूसरे दिन 13 फरवरी को 6 सत्र होंगे। इसमे इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईव्हीएम) तथा व्हीव्हीपेट का उपयोग, मतदान दल एवं दिव्यांग मतदाता की सहूलियतों, पेड न्यूज़, मीडिया तथा मीडिया मॉनिटरिंग कमेटी, मतगणना तथा परिणाम की घोषणा के साथ ही सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग जैसे सुविधा, सुगम, समाधान, सी-विजिल तथा मतगणना एप्लिकेशन पर जानकारी दी जाएगी।

Back to top button