विधानसभा के पूर्व सचिव की बेटी ने ऐसी की हरकत, छात्र ने फांसी लगाकर दे दी जान

-श्रुति ने यश को पिटवाया और नग्न कर बनाया वीडियो

भोपाल/बैतूल।

एमबीबीएस छात्र सुसाइड मामले में एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। यश पाठे लक्ष्मी नारायण मेडिकल कॉलेज (एलएन मेडिकल कॉलेज) के एमबीबीएस के सेकंड ईयर का छात्र था। श्रुति और यश 11 जून को ड्रग्स ली थी। ड्रग्स लेने के बाद दोनों के बीच जमकर विवाद हो गया। विवाद के दूसरे दिन श्रुति ने कुछ लोगों को लेकर यश को पीटवाया।

इतना ही नही उन्होंने पीटने का वीडियो भी बना लिया। इससे यश डिप्रेशन में आ गया। भोपाल से बैतूल लौटकर 13 जून की रात फांसी लगाकर जान दे दी। श्रुति, विधानसभा के पूर्व सचिव सत्यनारायण शर्मा की बेटी है। आरोप यह भी है कि श्रुति ने ही यश को ड्रग की लत लगवाई थी। पुलिस की पूछताछ में श्रुति के दोस्त गौरव दुबे ने इसका खुलासा किया है। इस मामले में श्रुति समेत 5 को पुलिस ने आरोपी बनाया है।

-दो आरोपी को किया गिरफ्तार

पुलिस ने यश सुसाइड मामले में आरोपी गौरव दुबे और आकाश सोनी को गिरफ्तार किया है। जबकि शालीन उपाध्याय, कार्तिक खरे और श्रुति की गिरफ्तारी बाकी है। गौरव ने बताया कि वह शालीन उपाध्याय का दोस्त है। तीनों ने इसी साल 12वीं की परीक्षा पास की है। हम केवल शालीन के कहने पर श्रुति के साथ गए थे और फंस गए।

ये इल्जाम लगाकर पीटवाई थी

वहीं, आकाश सोनी ने पुलिस को बताया कि श्रुति ने यश पर चोरी का इल्जाम लगाकर पिटाई कराई थी। उसने यह भी कहा कि ड्रग एडिक्ट होने के कारण यश ने भोपाल में रहकर दो बार खुदकुशी की कोशिश की थी। हालांकि, आरोपियों के इस दावे को यश के पिता प्रह्लाद पाठे ने झूठा करार दिया है। उनका कहना है यदि यश ड्रग एडिक्ट था तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट में ये बात सामने क्यों नहीं आई? उन्होंने पुलिस से आरोपियों के खिलाफ पुख्ता सबूत इकट्ठे करने की मांग की है ताकि उन्हें कड़ी से कड़ी सजा मिल सके।

पैसे लाने का दबाव बनाती थी

टीआई राजेश साहू के मुताबिक, श्रुति ड्रग्स की आदी है। वह यश पर पैसे लाने का दबाव बनाती थी। वह अन्य छात्रों से भी दोस्ती कर उन पर पैसे लाने का दबाव बनाती थी। उसकी बड़ी बहन शेफाली भी इसी कॉलेज से एमबीबीएस कर रही है। शेफाली ने ही यश को श्रुति से मिलवाया था। श्रुति से जुड़े सभी छात्र उसे दीदी कहकर बुलाते थे। श्रुति के एक इशारे पर किसी भी छात्र के साथ मारपीट कर दी जाती है। श्रुति के पास ऐसे कई छात्र हैं, जो ड्रग एडिक्ट हो चुके हैं। वह कई बार उन्हें ड्रग्स भी देती थी।

Back to top button