बैंक में बंधक जमीन व मकान का किया सौदा, फिर दूसरे को बेच दी

अजय शर्मा

बिलासपुर। बैंक में बंधक जमीन व मकान को बेचने के लिए सौदा कर उसे मुक्त कराने के बाद षडयंत्र कर किसी दूसरे व्यक्ति को बेचने वाले आरोपी, उसकी पत्नी व साले के खिलाफ पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है।

तोरवा पुलिस के अनुसार हेमूनगर निवासी मिठाई लाल बाविसटाले पिता स्व. सूखनलाल (61) को अपने बेटे के नाम पर मकान लेना था। इस दौरान हेमूनगर निवासी दीपक विश्वकर्मा पिता रामगोपाल विश्वकर्मा (38) ने उसे बताया कि उसके स्वर्गीय पिता के नाम पर पांच डिसमिल जमीन व मकान है, जिसे बेचना है। उसने अपने पिता के नाम का फौती कटवा लिया है। इस पर उन्होंने 2017 में जमीन व मकान का सौदा तय कर लिया और एग्रीमेंट करने के साथ ही एक लाख रुपये एडवांस दिया।

बाद में उन्हें बताया गया कि उक्त जमीन व मकान बैंक में बंधक है, जिसका लोन जमा करने के बाद दस्तावेज को मुक्त कराया जा सकता है। इस पर उन्होंने जमीन के दस्तावेज मुक्त कराने के लिए बैंक के माध्यम से पांच लाख रुपये दिया। दस्तावेज मुक्त कराते ही दीपक विश्वकर्मा, उसकी पत्नी रश्मि विश्वकर्मा व सिरगिट्टी के शिव विहार निवासी साला अंकित विश्वकर्मा पिता रामनारायण विश्वकर्मा से मिलीभगत कर षडयंत्र करते हुए जमीन को मनीष अवस्थी से सौदा कर उसके नाम रजिस्ट्री करा दी। षडयंत्र कर धोखाधड़ी करने का मामला सामने आने के बाद मिठाईलाल ने मामले की शिकायत तोरवा थाने में की।

इस बीच पुलिस ने पीड़ित के साथ ही सभी पक्षों का बयान दर्ज किया। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की। इस पर उन्होंने मामले की शिकायत आइजी व एसपी से कर दी। एसपी के निर्देश पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 420, 467, 468, 470, 471, 120बी, 34 के तहत अपराध दर्ज कर लिया है।

खरीदार को भी आरोपी बनाने की मांग
पीड़ित मिठाईलाल ने अपनी शिकायत में आरोपियों के षडयंत्र कर छह लाख रुपये हड़पने का आरोप लगाया है। रकम लेने के बाद भी न तो जमीन की रजिस्ट्री कराई गई और न ही रकम वापस किया गया। बल्कि खरीदार मनीष अवस्थी के साथ मिलकर षडयंत्र किया गया और जमीन को उसे बेच दी। इस मामले में खरीदार मनीष को भी आरोपी बनाने की मांग की गई है।

advt
Back to top button