काजी हाउस में गायों की मौत, जनता कांग्रेस के गौसेवक विभाग ने रिपोर्ट में बताए ये कारण

बलौदाबाजार :

बलौदाबाजार विकास खंड पलारी गांव में रोहासी काजी हाउस में 30 गायों की मौत मामले में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे गौसेवक विभाग ने जांच निरीक्षण रिपोर्ट तैयार की है।

गौसेवक विभाग ने 7 बिन्दुओं पर जांच निरीक्षण और 5 बिन्दुओं पर जांच के विषय को आधार मानकर कई महत्वपूर्ण तथ्यों मौत के कारण का आंकलन किया है। रिपोर्ट में काजी हाउस की स्थिति को अत्यंत ही दयनीय बताया गया है।

इन बिंदुओं को माना आधार

1.यह कि गांव में स्थित काजीहाऊस की स्थिति अत्यंत जर्जर खंडहरनुमा व छोटी जगह पर बिना पानी चारा के है।

2.काजीहाऊस का संचालन वर्तमान मे कोई नहीं कर रहा है। 3. गत 31 जुलाई 2018 को यहाँ गाँव के कुछ लोगो द्वारा लगभग 200 से 300 के बीच आवारा पशुओ जिसमे सभी गाये थी को उक्त काजी हाउस मे डाल दिया गया था।

4.कांजी हाऊस मे एक बरामदा है व एक कमरा लगभग 9़14 स्थित है इसी कमरे मे 30 गायें छमता से अधिक हो जाने व संभवत: कमरे की सिटकनी बाहर से बंद कर देने के कारण बिना चारा पानी व घुटन में मर गई।

5. यह कि गाव के सरपंच ईश्वर बघेल व उपसरपंच ने बताया कि मवेशियों को 31 जुलाई 2018 को काजीहाऊस मे डालने के बाद 1अगस्त 2018 को मवेशियों की ब्यवस्था के लिए बैठक मुनादी करायी गयी थी जिसमे कोई एकत्रित नही हुआ।

6.यह कि 2 अगस्त 2018 को काजीहाऊस से दुर्गंध आने पर कमरे के भीतर लगभग 30 गायो को दर्दनाक रूप से मरा पाया गया।

7.यह कि उक्त मवेशियों के कोई भी वारिशो का अपने गाय के प्रति दावा नहीं आने पर उसे लावारिश मानकर आनन फानन मे दफना दिया गया।

-ये है जांच का विषय

1. काजीहाऊस की सिटकनी बाहर से किसने बंद की।

2. क्या काजीहाऊस के लावारिस संचालन पर ग्राम पंचायत जनपद का ध्यान नही था।

3. छोटी सी जगह मे बिना पानी चारा के काजीहाऊस का होना शासन प्रशासन की नाकामी है इसके लिए पशुपालन विभाग पूर्ण दोषी है। 4. आये दिन गावों में आवारा पशुओ के द्वारा किसानो के खेत चरने की घटनाएं बढ़ रही है यह गौचर भूमि की कमी से हो रहाजिस पर प्रशासन का कोई ध्यान नही जिसकी शिकायत कई बार की जा चुकी थी।

5. क्या भाजपा सरकार गौपालन को समस्या मानकर समाधान की दिशा मे ध्यान नही देना चाहती। निरीक्षण जांच समिति में गिरधारी यादव प्रदेशअध्यक्ष जनता कांग्रेस छतीसगढ जे गौसेवक विभाग,सत्य प्रकाश निर्मलकर ,जोहान पटवा,उत्तम सिंह,मंगल महंत,विकास सोनी ने रिपोर्ट तैयार की है।

Tags
Back to top button