छत्तीसगढ़

औद्योगिक इकाईयों के श्रमिकों के ड्रेस प्रवासी श्रमिकों और स्व-सहायता समूह द्वारा तैयार किया जायेगा

रायगढ़ जिले में 100 सिलाई मशीन वाले ड्रेस सिलाई केन्द्र प्रारंभ किये जाने का  प्रस्ताव है।

हिमालय मुखर्जी ब्यूरो चीफ रायगढ़

रायगढ़, 17 जुलाई 2020/ कलेक्टर भीम सिंह ने कल कलेक्ट्रेट स्थित सभाकक्ष में स्थानीय उद्योगों के प्रतिनिधियों की बैठक लेकर उनकी इकाईयों में उपयोग किये जाने वाले ड्रेस की आपूर्ति स्थानीय प्रवासी श्रमिकों, महिलाओं तथा महिला स्व-सहायता समूह के द्वारा कराये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के दौरान राज्य के बाहर से आने वाले श्रमिकों में बड़ी संख्या में टेक्सटाइल मिलों में काम करने वाले पुरूष और महिला श्रमिक है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देशों के अनुसार राज्य के बाहर से आये प्रवासी श्रमिकों को उनकी कार्यक्षमता के अनुरूप स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध कराया जाना है इन निर्देशों का पालन करते हुये रायगढ़ जिले में 100 सिलाई मशीन वाले ड्रेस सिलाई केन्द्र प्रारंभ किये जाने का  प्रस्ताव है। इन केन्द्रों का संचालन स्व-सहायता समूह के माध्यम से किया जायेगा।

कलेक्टर सिंह ने उद्योगों के प्रतिनिधियों से कहा कि औद्योगिक इकाईयों द्वारा सुझाये गये गुणवत्ता के अनुरूप कपड़ों से उद्योगों के श्रमिकों में उपयोग होने वाले ड्रेस की सिलाई कर आपूर्ति किया जायेगा। जिले के जिंदल उद्योग समूह सहित बहुत से इकाईयों से ड्रेस आपूर्ति किये जाने की सहमति प्राप्त हो गयी है अत: शेष उद्योग इकाईयों की ओर से अपने प्रबंधन से चर्चा कर शीघ्र मांगपत्र/ सहमति पत्र जिला प्रशासन को सौंपे जिससे प्रस्ताव अनुसार आगे कार्यवाही प्रारंभ की जा सके। उ

न्होंने कहा कि इस सिलाई केन्द्र की स्थापना से राज्य के आर्थिक रूप से कमजोर प्रवासी श्रमिकों को महत्वपूर्ण रोजगार उपलब्ध हो सकेगा। उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना संक्रमण काल में बहुत सी परिस्थितियां बदल गई है। हमें मिल-जुलकर स्थानीयता को बढ़ावा देना है। जब औद्योगिक इकाईयां राज्य में स्थापित है तो ड्रेस की आपूर्ति भी स्थानीय  तौर पर होनी चाहिये।

राज्य शासन द्वारा जारी गाइड लाइन

कलेक्टर सिंह ने कोरोना संक्रमण और इसके रोकथाम के लिय उद्योग प्रतिनिधियों से सहयोग करने की अपील करते हुए भारत सरकार और राज्य शासन द्वारा जारी गाइड लाइन का अनिवार्यत: पालन करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि राज्य के बाहर से आने वाले श्रमिकों के विषय में आने वाले दिन ही क्षेत्र के एसडीएम को सूचित करें और 14 दिन के लिए होम क्वारेंटीन में रखे और सेम्पल जांच भी करावे। जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने और क्वारेंटीन अवधि पूर्ण होने के बाद ही उसे कार्य पर रखे। उन्होंने उद्योग इकाईयों द्वारा नियमानुसार उल्लेखित सीएसआर की राशि शीघ्र जमा कराये जाने के निर्देश दिये और जिला प्रशासन के अनुमोदन के पश्चात ही सीएसआर राशि से कार्य कराने के लिए निर्देशित किया।

कलेक्टर श्री सिंह ने औद्योगिक प्रतिनिधियों को उद्योग संचालन में प्रशासन की ओर से हर संभव सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया। बैठक में श्रम, रोजगार और उद्योग विभाग के अधिकारियों सहित औद्योगिक इकाईयों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button