अखिलेश और निरहुआ के मतों पर पूरे देश की निगाहें

सबसे अधिक 436 बूथों की गणना पूरी करने में 32 राउंड होगी

आजमगढ़: आजमगढ़ लोकसभा सीट के लिए शहर के बेलइसा एफसीआई गोदाम में मतगणना हो रही है। विधानसभावार मतगणना के लिए 14-14 टेबल लगाए गए हैं। इसके अलावा एक-एक टेबल आरओ के लिए लगाए गए हैं।

आजमगढ़ लोकसभा के मेहनगर विधानसभा में सबसे अधिक 436 बूथों की गणना पूरी करने में 32 राउंड होगी। यहां भी 31 वें राउंड के बाद दो ही बूथों की ईवीएम की गिनती रह जाएगी। 32 वें राउंड में दो बूथों की गिनती होगी।

इस लोकसभा सीट केमेन सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव खुद प्रत्याशी हैं। अखिलेश ने शुरुआती रुझान में ही बड़ी बढ़त बना ली है। दोपहर डेढ़ बजे तक अखिलेश 141093 अौर भाजपा के निरहुआ 68993 वोट हासिल कर चुके थे। यहां की पड़ोसी सीट लालगंज बसपा की संगीता 40421 वोट पाकर बीजेपी की नीलम 23461 से आगे चल रही थीं। अखिलेश और निरहुआ के मतों पर पूरे देश की निगाहें लगी हुई हैं। 25 से 32 राउंड में पूरी गिनती होगी।

आजमगढ़ और लालगंज लोकसभा की मतगणना के लिए 140 टोली में 560 कर्मचारियों को तैनात किया गया है। प्रत्येक टोली में एक मतगणना सुपरवाइजर, दो मतगणना सहायक और एक चतुर्थ श्रेणी का कर्मचारी शामिल है।

बेइलइसा एफसीआई गोदाम में आजमगढ़ लोकसभा के लिए विधानसभावार 14-14 टेबल लगाए गए हैं। इसी तरह चकवल एफसीआई गोदाम में विधानसभावार 14-14 टेबल लगाए गए हैं। सुबह पहले बैलेट मतपत्रों की गिनती की जाएगी। इसके बाद ईवीएम से वोटों की गिनती शुरू की जाएगी।

आजमगढ़ में कभी किसी लहर का प्रभाव नहीं रहा। चाहे वह जनता लहर हो, राम लहर रहा हो या फिर मोदी लहर। हर चुनाव में यहां के वोटरों ने लहर के विपरीत परिणाम दिया है। 1978 में जब देश में कांग्रेस के खिलाफ लहर थी तब उपचुनाव में कांग्रेस की मोहसिना किदवई को जीत मिली।

Back to top button