छत्तीसगढ़

आदिम जाति सेवा सहकारी समिति बरती कला में नोडल अधिकारी के दबंगई से परेशान हुए किसान

शिव कुमार चौरसिया:

वाड्रफनगर: ज्ञात हो कि आदिम जाति सेवा सहकारी समिति बरती कला में किसान काफी हद तक परेशान नजर आए। यहां तक कि धान उपार्जन केंद्र में एक ओर शासन द्वारा किसानों को हर संभव सहयोग प्रदान किया जा रहा है वही अधिकारियों द्वारा जिनकी ड्यूटी धान उपार्जन केंद्र पर लगाई गई है उनके द्वारा काफी ड्यूटी में लापरवाही बरती जा रही है।

जब दिनांक23/12/2019 को किसान 10:00 बजे उपार्जन केंद्र धान लेकर पहुंचे उस वक्त किसी अधिकारी का अता पता नहीं था। धान समिति के कार्यकर्ताओं से पूछे और बोले कि हमें बोड़ा दिया जाए तो समिति के पदस्थ कर्मचारी ओने एक स्वर में जवाब दे दिया कि जब तक नोडल अधिकारी नहीं आते हैं। और हमें बोडा देने को नहीं बोलते हैं हम बोडा देने से असमर्थ हैं।

आखिरकार किसान को ऐसा परेशान क्यों किया जा रहा है। किसान टाइम 10:00 से 11:00 बजे तक धान समिति में पहुंच जाते हैं लेकिन नोडल अधिकारी का टाइम 1:00 बजे होता है। आखिर किसान कहां पर गलत है। क्योंकि जब अधिकारी ही अपने कर्तव्य का निर्वाह सही ढंग से नहीं कर रहे हैं ।अपने मनमाने आ रहे हैं और अपने मनमाने चले जा रहे हैं।

तो सिर्फ किसान को ही परेशान करना उचित है । किसानों के द्वारा ऐसे लापरवाह कर्मचारियों को एवं नोडल अधिकारी को यहां से अन्यत्र जगह- भिजवाने एवं अच्छे कर्मचारियों का ड्यूटी लगाने को मीडिया के सामने गुहार लगाते नजर आएं।

Tags
Back to top button