भारत में कोरोना वैक्सीन से पहली मौत, केंद्र सरकार ने की पुष्टि

इन सबके बीच कोरोना की वैक्सीन से मौत का पहला मामला सामने आया है.

NEW DELHI: देश में कोरोना की दूसरी लहर पर धीरे-धीरे काबू पाया जा रहा है. ज्यादातर राज्यों में कोरोना के मामलों में लगातार कमी आ रही है. साथ-साथ वैक्सीनेशन अभियान भी जोर शोर से जारी है. देश में फिलहाल कोविशील्ड, कौवैक्सीन और स्पुतनिक V वैक्सीन दी जा रही है. उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही कुछ और वैक्सीन इस अभियान को और तेजी देंगे. वैक्सीन के साइड इफेक्ट की खबरें भी कई बार सुनने को मिलती रहती हैं. इन सबके बीच कोरोना की वैक्सीन से मौत का पहला मामला सामने आया है.

देश में कोविड वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स पर शोध कर रहे एक सरकारी पैनल ने टीके के चलते एक व्यक्ति की मौत की पुष्टि की है. कोरोना वैक्सीन के चलते भारत में यह पहली मौत की पुष्टि की हुई है. AEFI की रिपोर्ट में इस बात की पुष्ठि हुई है. AEFI यानी ‘एडवर्स इवेंट्स फॉलोइंग इम्युनाइजेशन’ वह कमेटी है, जो वैक्सीन के बाद होने वाले विपरीत असर की निगरानी करती है.

AEFI के चेयरमैन डॉ. एनके अरोड़ा ने इस बारे में न्यूज एजेंसी PTI को बताया कि एक बार फिर से हम यही सलाह देंगे कि टीका लगने के 30 मिनट बाद तक वैक्सीनेशन सेंटर पर ही रहें. इसी अवधि में कई बार साइडइफेक्ट्स देखे जाते हैं और उसके बाद तत्काल इलाज मिलने पर उसे नियंत्रित किया जा सकता है.

AEFI की रिपोर्ट के अनुसार 31 सीरियस AEFI का मूल्यांकन किया गया था, इसमें 28 लोगों की मौत हुई थी. बताते चलें कि जबसे टीकाकरण की शुरुआत हुई है तब से यह सभी 31 मामले सीरियस AEFI के आए हैं. इन पर कमिटी ने अपनी रिपोर्ट तैयार की है. AEFI समिति के सलाहकार एनके अरोड़ा ने बताया कि रिपोर्ट के अनुसार इन सब 28 मौत में से 1 मौत वैक्सीन की वजह से हुई है. उन्होंने बताया कि 31 सीरियस AEFI में से 18 मामले आकस्मिक रहे, जिनका वैक्सीन से कोई नाता नहीं रहा है.

उधर, भारत में मंगलवार को कोरोना के 60,471 नए मामले दर्ज हुए और इस दौरान 2,726 लोगों की मौत हो गई. बीते कई हफ्तों से लगातार भारत में कोरोना के मामलों में लगातार कमी दर्ज हो रही है. दूसरी लहर की पीक में यानी मई की शुरुआत में रोजाना दर्ज होने वाले मामले 4 लाख के पार हो चुके थे, जो अब 60,000 के करीब आ गए हैं

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button