2019 लोकसभा चुनाव साथ चुनाव लड़ने की तैयारियों को लेकर बीएसपी की पहली बैठक आज.

2019 लोकसभा चुनाव में साथ मिलकर बीजेपी से मुक़ाबला करने की तैयारी में एसपी-बीएसपी. यूपी के फूलपुर, गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव और राज्यसभा चुनाव में एक साथ पहले भी नजर आ चुके है

लखनऊ: 2019 लोकसभा चुनाव में साथ मिलकर बीजेपी से मुक़ाबला करने की तैयारी में एसपी-बीएसपी. यूपी के फूलपुर, गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव और राज्यसभा चुनाव में एक साथ पहले भी नजर आ चुके है

एसपी-बीएसपी दोनों ही गठबंधन क लिए राजी. इस बीच बीएसपी की प्रमुख मायावती ने सपा के साथ चुनाव लड़ने की तैयारियों को लेकर आज बीएसपी की पहली बैठक बुलाई. जहां बीएसपी के सभी विधायक और ज़ोनल कोऑर्डिनेटर मौजूद थे. जहा पार्टी के नेताओं से गठबंधन को लेकर उनकी राय ली गई. इसके बाद गठबंधन पर औपचारिक मुहर आज लग सकती है.

आज सुबह ही मायावती ने कहा है कि ”एसपी-बीएसपी निजी स्वार्थों की वजह से एक साथ नहीं आए हैं बल्कि बीजेपी के कुशासन के खिलाफ खड़े हुए हैं”. इससे पहले राज्यसभा चुनाव में 9वीं सीट पर हार के बाद भी मायावती ने ऐलान करते हुए कहा था कि सपा और बसपा के बीच गठबंधन अटूट है और यह 2019 तक चलेगा.

मायावती ने यह भी कहा की साथ अखिलेश यादव अभी राजनीति में कम अनुभवी हैं. वह उनकी जगह होतीं तो अपने प्रत्याशी को जिताने के बजाए बीएसपी को जितातीं. मायावती के इस बयान को एक तरह से संदेश के तौर पर देखा गया था. और इसके साथ ही मायावती ने 2019 के लिए कांग्रेस के भी सपा-बसपा गठबंधन के साथ आने के संकेत दिए हैं.

advt
Back to top button