पूर्व मंत्री ने कहा-दलाली खाने से सरकार चली गई, तो दूसरे ने क्या कहा पढ़िए खबर

बैकुंठपुर। विधानसभा चुनाव में हारने वाले भाजपा के जनप्रतिनिधि खुद नहीं चाहते थे कि कोरिया से नए उम्मीदवार को सांसद के चुनाव में खड़ा किया जाए, इसलिए कोरिया जिले से लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार नहीं बनाया गया है। भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष पटेल ने कहा कि कोरिया के चुनाव हार चुके जनप्रतिनिधि स्वयं नए उम्मीदवार को सामने आना नहीं देना चाहते हैं।

उनके कुचक्र के कारण ही कोरिया से लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार नहीं बनाया गया है। इससे कोरिया में भाजपा का कार्य करने वाले कार्यकर्ता-पदाधिकारियों को ठेस पहुंची है और उनका अपमान हुआ है। टिकट नहीं मिलने के लिए संगठन को जिम्मेदार नहीं मानता हूं। इसके लिए भाजपा के हार चुके जनप्रतिनिध को दोषी हैं, जिन्हें कोरिया की जनता ने अपने सिर पर चढ़ा रखा है।

पूर्व मंत्री का सम्मेलन में दिया बयान दुर्भाग्यपूर्ण

भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष पटेल ने पूर्व श्रम खेल एवं युवा कल्याण मंत्री भइयालाल राजवाड़े के कोरबा में दिए बयान को लेकर कहा कि वे पूर्व सरकार में एक जिम्मेदार मंत्री के रूप में कार्यरत थे। उनका यह बयान कि दलाली खाने से सरकार चली गई है, दुर्भाग्यपूर्ण है।

उन्होंने कहा कि वह मंत्री कल तक एक झोपड़ी में रहते थे और 10 साल के अपने मंत्री व संसदीय सचिव के कार्यकाल में 3-3 बंगले बना लिए हैं। आज वही इस तरह का बयान दे रहे हैं। प्रदेश से भाजपा सरकार सत्ता से बाहर है। भाजपा संगठन, कार्यकर्ता-पदाधिकारियों के कारण नहीं, बल्कि ऐसे पूर्व मंत्री के विवादित बयानों के कारण सरकार चली गई है।

काम करने वाले कार्यकर्ताओं का सम्मान नहीं

भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष पटेल ने कांग्रेस पार्टी ज्वाइन करने के सवाल पर कहा कि भाजपा में काम करने वाले कार्यकर्ताओं का सम्मान नहीं किया जाता है। इसलिए इस बात पर विचार करना पड़ेगा कि भाजपा में रहना है या नहीं रहना है। मामले में जल्द फैसला लिया जाएगा।

कोरबा में ऐसा कुछ बयान नहीं दिया हूं

पूर्व श्रम खेल एवं युवा कल्याण मंत्री भइया लाल राजवाड़े ने कहा कि भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष को टिकट नहीं मिला, इसलिए नाराजगी जताई है और मेरे बारे में भी उल्टी-सीधी बातें कर रहा है। उन्होंने कहा कि मैं कोरबा में ऐसा कुछ बयान नहीं दिया हूं। सिर्फ एक सुझाव दिया था।

इससे हमारी सीटों की संख्या बढ़ सकती थी। उन्होंने कहा कि मैंने यह सुझाव दिया कि किसानों को मोबाइल, साइकिल की जगह धान की कीमत बढ़ाते, कर्जमाफी करते तो हमारी पार्टी की सीट भी 68 आ सकती थी, क्योंकि कांग्रेस ने धान की कीमत 2500 रुपए कर दी।

इससे उनकी सीट की संख्या बढ़ गई। उन्होंने भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष के बयान को लेकर कहा हम स्वयं लोकसभा टिकट के दावेदार थे। किसी को टिकट मिलने पर हम क्यों विरोध करेंगे। हम सिर्फ पार्टी के लिए काम करते हैं। किसी व्यक्ति विशेष के लिए काम नहीं करते हैं।

Back to top button