लक्ष्य को पाने के लिए कठिन परिश्रम जरूरी : कलेक्टर धावड़े

बच्चों को एकाग्रचित्त होकर हर विषय का गहन अध्ययन करना चाहिए

हितेश दीक्षित

छुरा/गरियाबंद।

कलेक्टर श्याम धावड़े से आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय गरियाबंद के बच्चों ने बड़े उत्साह के साथ मुलाकात की। सभी बच्चों ने एक साथ हैप्पी न्यू ईयर कहकर कलेक्टर श्री धावड़े का अभिवादन किया।

धावड़े ने भी बच्चों को नये वर्ष और उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनायें दी। दरअसल विद्यालय के अनेक बच्चों ने कलेक्टर श्री धावड़े से मिलने और कलेक्टर कार्यालय देखने की इच्छा जाहिर की थी, इसलिए बच्चों को आज यहां लाया गया था।

इस अवसर पर कलेक्टर धावड़े ने बच्चों को पढ़ाई-लिखाई के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि एकाग्रचित्त होकर हर विषय का गहन अध्ययन करना चाहिए। जो प्रश्न समझ में न आये, उसे तुरंत अपने टीचर से पूछना चाहिए।

उन्होंने कहा कि अपने लक्ष्य को पाने के लिए कठिन परिश्रम जरूरी है। मेहनत करने से अपने अंदर की कमियां दूर होती हैं। पढ़ाई के साथ-साथ खेलकूद और अन्य गतिविधियों में भी बच्चों को हिस्सा लेना चाहिए। इससे बच्चों के व्यक्तित्व का समग्र विकास होता है। इस अवसर पर सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग श्री एल.आर. कुर्रे उपस्थित थे।

धावड़े ने बच्चों से विभिन्न विषयों के पाठ्यक्रमों की पूर्णता और स्कूल के बाद विद्यालयीन आवास में अध्ययन की अवधि के बारे में जानकारी ली। बच्चों ने बताया कि वे रात को दस-साढ़े दस बजे तक सेल्फ स्टडी करते हैं। उन्होंने बच्चों से नाश्ता और भोजन के बारे में पूछताछ की। बच्चों ने बताया कि उन्हें आवासीय विद्यालय में नाश्ते में पोहा, हलवा, फल, दूध, बिस्किट, टोस्ट, अंकुरित मूंग-चना तथा भोजन में दाल, चावल, रोटी-सब्जी आदि दिया जाता है।

कलेक्टर धावड़े के पूछने पर गणेश कुमार नेताम और खुशवंत सिंह नागेश ने पढ़-लिखकर कलेक्टर बनने की इच्छा जताई, जबकि कक्षा छठवीं की गेसिका कामर्रा और ताराचंद दीवान ने वैज्ञानिक, लवेश कुमार ने डाॅक्टर, हिमांशु कुमार ने सिविल इंजीनियर और पायल ध्रुव ने पुलिस बनने की इच्छा जाहिर की। अन्य कई बच्चों ने टीचर, पुलिस और डाॅक्टर बनने की बात कही। बच्चों की जिज्ञासा पर कलेक्टर श्री धावड़े ने अपने बचपन की पढ़ाई-लिखाई का अनुभव भी साझा किया।

इस मौके पर कलेक्टर ने नये वर्ष के उपहार स्वरूप सभी बच्चों को एक-एक कम्पास बाॅक्स प्रदान किया। इसके अलावा 30 नवम्बर एवं 1 दिसम्बर 2018 को अटल नगर रायपुर में आयोजित 26वीं राज्य स्तरीय राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस 2018 में हिस्सा लेने वाले बच्चों को प्रमाण पत्र भी प्रदान किया।

ज्ञातव्य है कि इस आयोजन में एकलव्य विद्यालय गरियाबंद के कक्षा छठवीं की गीतांजली ध्रुव और तारांचद दीवान ने हेल्थ हाईजिन एण्ड सेनिटेशन विषय के अंतर्गत स्कीन डिसीस पर आधारित प्रोजेक्ट का प्रदर्शन किया था। इसी प्रकार कक्षा सातवीं की डिगेश्वरी कुमारी कंवर और प्रवीण ध्रुव ने इको सिस्टम एण्ड इको सिस्टम सर्विसेस विषय के अंतर्गत फारेस्ट इको सिस्टम पर आधारित प्रोजेक्ट प्रदर्शित किया था।

बच्चों से मुलाकात के दौरान कलेक्टर

धावड़े ने विद्यालय के प्राचार्य पी.के. जटवार और शिक्षिका श्रीमती गीता सरनागत से बच्चों की पढ़ाई के संबंध में चर्चा की। उन्होंने सभी विषयों के पाठ्यक्रमों को समय पर पूर्ण कराने के निर्देश प्राचार्य को दिये हैं। उन्होंने यह भी कहा कि विद्यालय के जो बच्चे सी ग्रेड में हैं, उन पर विशेष ध्यान दिया जाए और एक्स्ट्रा क्लास लेकर इन बच्चों के ग्रेड में सुधार लाये।

कलेक्टोरेट में बच्चों को नाश्ता कराया गया। कलेक्टर से मुलाकात के बाद बच्चों ने पुलिस अधीक्षक एम.आर. आहिरे से मुलाकात की। श्री आहिरे ने सभी बच्चों को टाॅफी दिया। इसके बाद बच्चों ने कलेक्टर धावड़े के कक्ष सहित विभिन्न कक्षों और वहां के कार्य के बारे में जाना तथा कलेक्टोरेट परिसर का भ्रमण किया।

एकलव्य विद्यालय के सभी बच्चे कलेक्टर धावड़े और पुलिस अधीक्षक श्री आहिरे से मिलकर उत्साहित और बहुत खुश हुए। बच्चे जिला पंचायत सीईओ आर.के. खुटे से भी मिले और जिला पंचायत का भ्रमण किया।

उल्लेखनीय है कि शिक्षण सत्र वर्ष 2017-18 से अनुसूचित जनजाति के होनहार बच्चों के लिए गरियाबंद में एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय प्रारंभ किया गया। इस विद्यालय में वर्तमान में कक्षा छठवीं एवं सातवीं में कुल 60-60 छात्र-छात्रा अध्ययनरत हैं। प्रत्येक कक्षा में 30 बालक एवं 30 बालिका हैं।

1
Back to top button