संसदीय समितियों में वित्तीय समितियों की अहम भूमिका : गौरीशंकर अग्रवाल

विधानसभा की लोक लेखा समिति की पहली बैठक में नेता प्रतिपक्ष सहित समिति के सदस्य व अधिकारी शामिल

रायपुर: छत्तीसगढ़ विधानसभा की वर्ष 2018-19 के लिए गठित लोक लेखा समिति की प्रथम बैठक मंगलवार को विधानसभा स्थित मुख्य समिति-कक्ष में हुई। बैठक में विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल, नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव, सदस्य देवजी भाई पटेल, विद्यारतन भसीन, बघेल लखेश्वर, भोलाराम साहू, विधानसभा के सचिव चन्द्र शेखर गंगराड़े, अपर सचिव शिव कुमार राय, महालेखाकार छत्तीसगढ़ बीके मोहंती एवं वित्त विभाग के अपर सचिव सतीश पाण्डेय मौजूद थे।

बैठक में विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल ने कहा कि-संसदीय प्रजातंत्र में कार्यपालिका विधानसभा के प्रति जवाबदेह होती है। संसदीय समितियों में वित्तीय समितियों की अहम भूमिका होती है। समितियां सभा का लघु स्वरूप होती है। लोक लेखा समिति विधान सभा की महत्वपूर्ण वित्तीय समिति है। इस समिति का महत्वपूर्ण कार्य शासन के कार्यो में वित्तीय नियंत्रण रखना होता है। लोक लेखा समिति का कार्य यह देखना होता है कि विधान सभा द्वारा जो बजट पारित किया गया है, उसका खर्च उन्हीं योजनाओं एवं कार्यो में सही तरीके से किया गया है या नहीं। समिति यह भी देखती है कि निरर्थक व्यय या वित्तीय अनियमितता तो नहीं की गई है। स्वीकृत राशि से अधिक खर्च एवं बचत होना व्यवस्था के दोषों को दर्शाता है। समिति ऐसे लेखों की जांच की सिफारिश करती है।

उन्होंने कहा कि संवैधानिक प्रावधानों के तहत भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक का प्रावधान किया गया है जो संघ-राज्य क्षेत्र में शासन द्वारा किए जाने वाले व्यय एवं व्यय में होने वाली खामियों के संबंध में अपना प्रतिवेदन राज्यपाल एवं बाद में सभा पटल पर प्रस्तुत करते हैं। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि-समिति अधिक से अधिक बैठक कर लंबित कार्यो को तीव्र गति से निपटाने में सफल होगी। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि लोक लेखा समिति को भविष्य में विभागीय ज्ञापन समय पर प्राप्त हो, इस बात का शासन के सभी विभागों को समुचित प्रयास करना चाहिए।

समिति के सदस्य अनुभवी, मिलेगा लाभ: टीएस सिंहदेव

इस अवसर पर समिति के सभापति टीएस सिंहदेव ने कहा कि विधानसभा अध्यक्ष द्वारा समिति को जो मार्गदर्शन दिया गया है, समिति उन अपेक्षाओं पर पूरी तरह खरी उतरेगी। उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष को आश्वस्त किया कि समिति की अधिक से अधिक बैठक कर लंबित कार्यो को निपटाने में जोर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि- लोक लेखा समिति के सभापति के रूप में कार्य करने का उनका अनुभव काफी सुखद रहा है और समिति के सदस्य के रूप में कार्य करके उन्हें बहुत कुछ सीखने एवं जानने का मौका मिला है। उन्होंने कहा , समिति के सदस्य काफी अनुभवी हैं एवं उनके अनुभवों का लाभ बैठकों के दौरान समिति को प्राप्त होता रहेगा।

1
Back to top button