ज्योति धुर्वे की बढ़ी मुश्किलें, जनजाति प्रमाण-पत्र को निरस्त करने पर लगी रोक हटी

भोपाल: मध्य प्रदेश के बैतूल संसदीय सीट से बीजेपी सांसद ज्योति धुर्वे के अनुसूचित जनजाति के दावे पर संकट गहरा गया है. सोमवार को बैतूल जिला प्रशासन को जनजातीय विभाग का आदेश प्रपट हुआ.

जनजातीय कार्य विभाग की छानबीन समिति ने धुर्वे के अनुसूचित जनजाति प्रमाण-पत्र को निरस्त करने पर लगी रोक हटा दी है. यानी धुर्वे जनजाति वर्ग की नहीं हैं. छानबीन समिति ने धुर्वे के जाति प्रमाण-पत्र को जब्त कर निरस्त करने के पूर्व में जारी आदेश पर लगी रोक हटा दी है. समिति ने जाति प्रमाण-पत्र रद्द करने का आदेश बरकरार रखा है.”

जनजातीय विभाग की आयुक्त दीपाली रस्तोगी की तरफ से जारी एक आदेश में कहा गया है, “ज्योति धुर्वे पुत्री महादेव दशरथ की जाति बिसेन है, जो मध्य प्रदेश में अनुसूचित जनजाति के रूप में अधिसूचित नहीं है. छानबीन समिति ने छह मई, 2017 को लगाई गई रोक निरस्त कर दी है.”

आदेश के अनुसार, “राज्य के सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा अनुसूचित जनजाति के संदेहास्पद प्रमाण-पत्रों की जांच के लिए बनाई गई छानबीन समिति ने सांसद ज्योति धुर्वे के जाति प्रमाण-पत्र मामले की छह फरवरी को सुनवाई की और सात फरवरी को आदेश पारित किया.

आदेश के अनुसार, छानबीन समिति ने छह अप्रैल, 2017 को ज्योति धुर्वे के अनुसूचित जनजाति-प्रमाण पत्र को लेकर सामने आए तथ्यों के आधार पर उनके गौंड़ जाति के प्रमाण-पत्र को निरस्त कर राजसात करने के साथ वैधानिक कार्रवाई के निर्देश दिए थे. धुर्वे ने इस पर पुनर्विचार का अनुरोध किया, जिसे समिति ने स्वीकार कर पूर्व में जारी आदेश पर रोक लगा दी थी.

Back to top button