छत्तीसगढ़राजनीतिरायपुर

भूपेश बघेल की सरकार ने गोबर खरीदी की जो पहल की है उससे भाजपा के पाँवों के नीचे से जमीन खिसक गयी

शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा-गोबर खरीदी को समझना भाजपा के बस की बात नहीं।

रायपुर/10 जुलाई 2020। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि गोबर खरीदी को समझना भाजपा के बस की बात नहीं। दरअसल भूपेश बघेल की सरकार ने गोबर खरीदी की जो पहल की है उससे भाजपा के पाँवों के नीचे से जमीन खिसक गयी है। इसी की तकलीफ भाजपा राष्ट्रीय महासचिव के ट्वीट और बयानों में झलक रही है।

भाजपा के लिये गाय केवल वोट और नोट कमाने का माध्यम है। भाजपा ने गौमाता का भरपूर उपयोग किया, नोट के लिये, वोट के लिये और घोटाले किये लेकिन गाय की हित की बातें नहीं सोची। भाजपा बात गाय की करती है लेकिन छत्तीसगढ़ के भाजपा नेता गौमाता को मारकर चमड़े, हड्डी, मांस के व्यापार में संलग्न रहे।

गोबर खरीदने की योजना एक अच्छा कार्य है। इसे समझ पाना भाजपा के बस की बात है भी नहीं। गाय ग्रामीण अर्थव्यवस्था का इंजिन है। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव मुरलीधर राव को यह समझ लेना चाहिये कि भाजपा गोबर और गोबर से सोना निकालने की बात करती है इसलिये कम्यूनल मध्ययुगीन और दकियानूस कहलाती है। कांग्रेस की सरकार गोबर की खरीदी भाजपा की तरह, आरएसएस की तरह कैंसर के इलाज या सोना निकालने के लिये नहीं कर रही है।

कांग्रेस सरकार गोबर खरीदी रोजगार सृजन, गौवंश संरक्षण और कृषि सुधार के लिये की जा रही है। आज अगर छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार गौवंश संवर्धन का काम कर रही है। रोजगार सृजन का काम कर रही है। किसानों की खेती का बेहतरीन काम कर रही है तो भाजपा के पेट में दर्द हो रहा है। गोबर खरीदी में मजदूरों, पशुपालकों, किसानों और पूरे छत्तीसगढ़ का हित है।

धरमलाल कौशिक के बयान पर कांग्रेस की प्रतिक्रिया

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि धरमलाल कौशिक छत्तीसगढ़ की भाजपा नेताओं द्वारा की गयी गौहत्या का हिसाब दें। गौशाला चलाते थे, करोड़ों का अनुदान लेते थे और गाय के चमड़े और मांस के लिये गायो की हत्या की जाती थी। ये पूरे छत्तीसगढ़ में अनेक स्थानों में हुआ है। धरमलाल कौशिक जी सबसे पहले इस पर हिसाब दें। इस तरीके से हवाबाजी और इधर-उधर की बातें करने के बजाय ठोस जमीनी धरातल पर उतरकर भाजपा को इन सवालों पर जवाब देना चाहिये।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button