मेजर समेत पांचों शहीदों को आज पूरे राजकीय सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई

पुलवामा मुठभेड़ में मेरठ के जांबाज अजय कुमार भी शहीद

जम्मू: जम्मू कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद हुए मेजर विभूति शंकर समेत पांचों शहीद जवानों को आज पूरे राजकीय सम्मान के साथ विदाई दी गई. शहीद मेजर विभूति का पार्थिव शरीर जैसे ही देहरादून स्थित उनके घर पहुंचा, बेटे की शहादत की खबर सुनकर मां बेहोश हो गईं. बेटे का पार्थिव शरीर पहुंचने के बाद से मां बेहोशी की हालत में हैं.

पुलवामा मुठभेड़ में मेरठ के जांबाज अजय कुमार भी शहीद हो गए. उनके घर मातम पसरा हुआ है. अजय के परिजनों ने बताया कि अजय 31 जनवरी को एक महीने की छुट्टी के बाद ड्यूटी पर लौटे थे. उनसे फोन पर बात हुई थी. परिजनों ने बताया है कि शहादत से पहले अजय ने पत्नी से फोन पर बात की थी और स्पेशल ऑपरेशन पर जाने की बात बताई थी.

मुठभेड़ में रेवाड़ी के जवान हरि सिंह भी शहीद

पुलवामा मुठभेड़ में रेवाड़ी के जवान हरि सिंह भी शहीद हुए हैं. शहादत की खबर के बाद गांव वाले परिवार को सांत्वना देने पहुंचे. हरि सिंह की शहादत के बाद रेवाड़ी के राजगढ़ गांव के लोगों में गुस्सा है. पाकिस्तान के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की गई है. शहीद कांस्टेबल श्यो राम का पार्थिव शरीर भी उनके घर पहुंचाया गया है.

बता दें कि शहीदों के पार्थिव शरीरों को अंतिम संस्कार के लिए उनके पैतृक गांव लाया गया है. जहां उनका अंतिम संस्कार पूरे सैन्य सम्मान के साथ किया जाएगा. रक्षा मंत्रालय ने कहा कि दुख की इस घड़ी में सेना शहीदों के शोक संतप्त परिवारों के साथ खड़ी है और उनकी प्रतिष्ठा और कल्याण के प्रति प्रतिबद्ध है.

मुठभेड़ में नौ सुरक्षाकर्मी भी घायल

वहीं, अधिकारियों ने बताया कि पुलवामा के पिंगलान क्षेत्र में हुई इस मुठभेड़ में कम से कम नौ सुरक्षाकर्मी घायल हो गए जिसमें एक ब्रिगेड कमांडर, लेफ्टिनेंट कर्नल और एक पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) शामिल हैं. यह मुठभेड़ स्थल उस जगह से करीब 12 किलोमीटर दूर स्थित है जहां गत 14 फरवरी को जैश-ए-मोहम्मद के एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटक से भरा अपना वाहन सीआरपीएफ की बस से टकरा दिया था. उस हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे.

सेना के वीर जवानों ने इन तीन आंतकियों को किया ढेर

इस मुठभेड़ में मारे गए जैश आतंकवादियों में 14 फरवरी को सीआरपीएफ काफिले पर हुए आत्मघाती हमले से जुड़ा एक आतंकवादी शामिल है जो इस आतंकी समूह का पाकिस्तानी कमांडर था. मारे एक आतंकी की पहचान पुलवामा कार अटैक के मास्टरमाइंड कामरान गाजी के रूप में हुई है. दूसरा आतंकी हिलाल अहमद स्थानीय नागरिक था, जो जैश से जुड़ा हुआ था. वहीं तीसरे आतंकी की पहचान रशीद गाजी के रूप में हुई है.

Back to top button