छत्तीसगढ़

राष्ट्रीय राजमार्ग की बदहाली को लेकर विधायक ने किया चक्काजाम

कीचड़ से सने रोड पर रोपा भी लगाया

रोशन सोनी

अम्बिकापुर:

सरगुजा से होकर गुजरने वाली नेशनल हाईवे हो या अंबिकापुर शहर के रिंग रोड फिर चाहे अंबिकापुर से प्रतापपुर मार्ग या सीतापुर से रायगढ़ सभी सड़को की हालत बहुत ही खराब है।

सभी सड़कें की हालत अब खस्ता स्थिति में आ गयी है। बदहाल हो चुके सड़को का मुद्दा भी अब राजनीतिक तूल पकड़ चुका है।

अंबिकापुर से रायगढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग की दुर्दशा को लेकर आज सीतापुर विधायक अमरजीत भगत ने बतौली में पहले पद यात्रा की फिर चक्का जाम कर विरोध प्रदर्शन किया। विधायक ने अपने समर्थकों के साथ पहले सड़क पर धान का रोपा लगाया फिर सड़क में लेट कर विरोध जताने लगे।

आपको बता दें कि NH 43 पूरी तरह से दलदल में तब्दील हो चुका है। भारी वाहन कही पर भी फंस जाते है जिससे आए दिन जाम की स्थिति निर्मित होती रहती है,एक दीन पहले ही 20 घण्टे जाम लगा था।

इससे पूर्व उन्होंने चिरंगा मोड़ पर समर्थकों के साथ धान का रोपा भी लगाया। इसके बाद डेढ़ किमी तक पैदल चलते हुए लेटकर प्रदर्शन किया। इस दौरान पार्थ कंपनी के मैनेजर द्वारा कुछ कहे जाने पर कांग्रेसी आक्रोशित हो गए। इस दौरान मौके पर मौजूद अधिकारियों ने समझाइश देकर मामला शांत कराया।

विधायक अमरजीत भगत का कहना है कि वह इस सड़क के सुधार लिए लंबे समय से संघर्ष करते आ रहे हैं, लेकिन प्रशासन इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है।
जिससे सड़क दिनों~दिन खराब होती जा रही है।

सड़क बनाने की स्वीकृति मिल तो गई है। लेकिन प्रदेश के बाहर के ठेकेदार को सुकृति मिलने से वह मनमौजी काम कर रहा है।

केंद्र के मंत्रियों से तालुकात रखने वाले ठेकेदार पर ना तो राज्य के मुख्यमंत्री कार्रवाई कर पा रहे हैं ना ही लोक निर्माण मंत्री विभाग के अधिकारी भी उसके नाम से रो रहे है।

अब ऐसे में सड़क कब और कैसे बनेगी। ताकि लोगों को राहत मिल सके यह देखने वाली बात है।

फिलहाल धरना स्थल पर पहुंचे जिम्मेदार अधिकारियों के आश्वासन पर विधायक ने अपना आंदोलन समाप्त किया।

करेंगे थाने का घेराव ?

चक्काजाम के बाद विधायक थाने पहुंचे और ठेका कंपनी व एनएच के इइ के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार करने की मांग की।

साथ ही उन्होंने चेतावनी दी कि यदि 15 दिन के भीतर इनकी गिरफ्तारी नहीं होती है तो उनके द्वारा थाने का घेराव किया जाएगा।

Back to top button