21वीं सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण, आइये जाने इनके बारे में

भारत में शुक्रवार देर रात करीब 11 बजकर 54 मिनट पर चंद्रग्रहण शुरू हुआ. शुरुआती एक घंटे में ये आंशिक चंद्रग्रहण रहा लेकिन बाद में इसने पूर्ण चंद्रग्रहण का रूप ले लिया.

नई दिल्ली : 21वीं सदी का सबसे लंबा खग्रास चंद्रग्रहण. यह एक महत्वपूर्ण खगोलीय घटना है. 27 जुलाई 2018 का ये पूर्ण चंद्रग्रहण इस सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण बताया जा रहा है. इसकी कुल अवधि 6 घंटा 14 मिनट रहेगी. इसमें पूर्णचंद्र ग्रहण की स्थिति 103 मिनट तक रहेगी.

दुनिया भर की निगाहें इस पर टिकी हैं. चंद्रग्रहण के कारण भारत में कई बड़े मंदिर दोपहर बाद ही बंद हो गए थे.

27 जुलाई, 2018 की रात पूरी दुनिया ने ऐतिहासिक नज़ारा देखा. 21वीं सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण (Longest total lunar eclipse) शुक्रवार की रात को हुआ, इस दौरान चांद ने धीरे-धीरे अपना रंग बदला. एक समय तो ऐसा भी आया जब चांद पूरी तरह से लाल रंग में तब्दील हो गया था.

शुक्रवार दोपहर पूर्ण चंद्रग्रहण की वजह से देश के कई बड़े मंदिरों को दोपहर में बंद कर दिया गया था. अब शनिवार सुबह जब चंद्रग्रहण खत्म हो गया है तो मंदिरों के कपाट खोल दिए गए हैं. देश के कई बड़े मंदिरों में विशेष पूजा का आयोजन भी किया गया है.

भारत में शुक्रवार देर रात करीब 11 बजकर 54 मिनट पर चंद्रग्रहण शुरू हुआ. शुरुआती एक घंटे में ये आंशिक चंद्रग्रहण रहा लेकिन बाद में इसने पूर्ण चंद्रग्रहण का रूप ले लिया.

इस दौरान देश और दुनिया में लोग इस अद्भुत नजारे के साक्षी बनने के लिए आसमान में टकटकी लगाए हुए देखते रहे. हालांकि, दिल्ली-एनसीआर में खराब मौसम होने के कारण कई जगह चांद साफ नहीं दिख पा रहा था.

दरअसल, चंद्रग्रहण (Chandra grahan) के दौरान चंद्रमा की चमक थोड़ी सी धूमिल होती है लिहाजा आमतौर पर आपको इसका पता नहीं चलता है. शुक्रवार की रात करीब 11:53:48 PM बजे छाया का ग्रहण आरंभ हुआ, अर्थात चंद्रमा ने पृथ्वी की घनी छाया में प्रवेश किया.

इस दौरान चंद्रमा की गोल आकृति धीरे-धीरे लाल पड़ती दिखाई दी. धीरे-धीरे चंद्रमा की गोल आकृति और भी ज्यादा मुख्य छाया में छुपती गई. भारत में करीब देर रात 1 बजे पूर्ण चंद्रग्रहण शुरू हुआ, इस दौरान चांद पूरी तरह लाल हो गया.

यह एक बेहद खूबसूरत नजारा रहा जिसे दुनिया ने करीब 103 मिनट तक देखा. क्योंकि इस बार चंद्रमा पृथ्वी की छाया के केंद्रीय भाग से होकर गुजर रहा था.

Back to top button