आदमखोर शिकारी अब भी घूम रहा आजाद, आदमखोर को पकड़ने में वन विभाग रही नाकाम

राजशेखर नायर:

नगरी: नगरी के ग्राम मुकुंदपुर में दिन के उजाले में बच्चे का जान लेने वाला आदमखोर तेंदुआ अभी आजाद घूम रहा है। तेंदुए की दहशत से दिन के समय भी ग्राम में सन्नाटा पसरा हुआ है। तेंदुए की दहशत की वजह से लोग घरों से बाहर निकलने से कतरा रहे हैं। वन विभाग की टीम आदमखोर तेंदुआ को पकड़ने में नाकाम रही। हां वन विभाग द्वारा बिछाई के जाल में कम उम्र का एक तेंदुआ जरूर फस गया।

15 मई शनिवार को ग्राम मुकुंदपुर निवासी बिसंबर नेताम का 6 वर्षीय पुत्र,आशिषअपने साथीयों के साथ सुबहा 7-8 बजे के आसपास,धर से कुछ ही दूरी पर स्थित चार के पेड के फल तेडनें गया हुआ था, तभी किसी ने परिजनो को खबर दी की अशीष पर तेंदुयें ने हमला कर दिया है। धटनास्थल पर जब परिजन पहुंचे तो तेंदुए के हमले से बुरी तरह से घायल आशीष की मौत हो चुकी थी। आदमखोर तेंदुए ने आशीष की गर्दन पर हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया, जिसकी वजह से घटनास्थल पर ही बच्चे की मौत हो गई।

वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची पंचनामा कार्रवाई की और मृतक बच्चे के दाह संस्कार के लिए परिजनों को कुछ रकम प्रदान किये व मुआवजा देने की बात कह कर चली गई।

इसके पूर्व भी तेंदुए द्वारा ग्राम संबलपुर में अपने दोस्तों के साथ खेल रहे एक और बच्चे पर हमला कर घायल करने की घटना हो चुकी है। बच्चे की किस्मत अच्छी थी कि उसके चिल्लाने की आवाज सुनकर,बड़ा भाई वहां पहुंचा और उसने तेंदुए से मुकाबला कर तेंदुए को भगाने में कामयाब हुआ।

वन विभाग द्वारा आदमखोर तेंदुए को पकड़ने के लिए जाल बिछाया गया पर अभी तक सफलता नहीं मिल पाई पर एक छोटी उम्र के तेंदुए को पकड़ने में जरुर सफलता मिली जिसे वन विभाग द्वारा उदंती सीतानदी के जंगलों में छोड़ा गया।

मुकुंदपुर में तेंदुए के हमले में मृतक बच्चे के पिता ने चर्चा में बताया कि वन विभाग द्वारा अभी तक उन्हें मुआवजा राशि प्रदान नहीं की गई है।
क्षेत्र में तेंदुए द्वारा लगातार इंसानों व मवेशियों पर हमले की घटनाएं बढ़ती जा रही है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button