छत्तीसगढ़

जे.एस.पी.एल.में कर्मियों को सड़क में “सुरक्षा से जीवन-रक्षा” का मंत्र

सड़क सुरक्षा माह के अंतर्गत जेएसपीएल के मंदिर हसौद परिसर में यातायात सतर्कता पर वर्कशॉप

· बाइकर्स और औद्योगिक वर्कर्स को हेलमेट की उपयोगिता के बारे में समझाया

· सुरक्षा मास्क, चश्मे, दस्ताने, जूते और सुरक्षा पेटी की अहमियत भी समझाई

· पुलिस की सूचनाओं को गंभीरता से लें, हादसों से बचेः सतीश ठाकुर

रायपुर: जाने-माने उद्योगपति श्री नवीन जिन्दल के नेतृत्व वाली कंपनी जिन्दल स्टील एंड पावर लिमिटेड के मंदिर हसौद परिसर में आज राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह (18 जनवरी – 17 फरवरी) के अंतर्गत रायपुर यातायात पुलिस के अधिकारियों ने सड़क हादसों को रोकने के लिए उपयोगी सुझाव दिये और उनके पालन के नियमों की जानकारी दी। इस अवसर पर सवाल का सही जवाब देने वालों को पुरस्कृत भी किया गया।

यातायात उप पुलिस अधीक्षक सतीश ठाकुर ने पूछा कि यातायात पुलिस के सूचना तख्त को कितनी गंभीरता से लेते हैं और ये कितनी श्रेणियों में बंटे होते हैं? विभिन्न कर्मियों ने इस पर अपनी अलग-अलग राय दी लेकिन सबसे सटीक उत्तर था – यातायात पुलिस के आदेश तीन श्रेणियों के होते हैं- सूचनात्मक जिसमें समय, काल और परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए मुसाफिरों और वाहन चालकों को सूचनाएं दी जाती हैं ताकि वे सुरक्षित सफर तय कर सकें। दूसरी श्रेणी के तहत आदेशात्मक तख्त आते हैं जिसमें हिदायत दी जाती है और तीसरी श्रेणी है चेतावनी, जिसके तहत जुर्माना या सजा अथवा दोनों कार्रवाइयां एक साथ हो सकती हैं। उन्होंने कहा कि यातायात पुलिस जनता की सेवा और सुरक्षा के लिए है इसलिए उसके सुझावों पर अमल करना प्रत्येक नागरिक का दायित्व है।

इस अवसर पर यातायात प्रशिक्षक टी.के. भोई ने एक बहुत ही महत्वपूर्ण बात कही। उन्होंने कहा कि सुचारु यातायात व्यवस्था में वाहन से अधिक वाहन चालक की भूमिका है। वाहन में कमी है तो चलेगा लेकिन वाहन चालक की कोई भी कमी हादसों को अंजाम दे सकती है। हालांकि वाहन और वाहन चालक दोनों का दुरुस्त रहना आवश्यक है। उन्होंने बाइकर्स और औद्योगिक वर्कर्स दोनों के लिए हेलमेट की उपयोगिता समझाई और कहा कि जीवन की रक्षा के लिए सुरक्षा मास्क, चश्मे, दस्ताने, जूते और सुरक्षा पेटी का उपयोग करना न भूलें। इस अवसर पर प्लांट हेड अरविंद तगई, एवीपी (प्रशासन) राकेश गुप्ता, प्रकाश पटेल, पुरुषोत्तम गोस्वामी, रामसागर मिश्रा समेत अनेक कर्मचारी उपस्थित थे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button