मेट्रो कर्मचारी काली पट्टी बांधकर कर रहे है हड़ताल, जाने क्यों ?

नॉन-एग्जिक्यूटिव कर्मचारियों ने 30 जून से हड़ताल पर जाने की धमकी दी है।

जयपुर। पिछले कई दिनों से दिल्ली मेट्रो के कई स्टेशनों पर दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के कर्मचारी बांह पर काली पट्टी बांध कर प्रदर्शन करते हुए दिखाई दे रहे हैं। कई कर्मचारियों को बांह पर काली पट्टी बांध कर शांतिपूर्ण विरोध करते हुए देखा जा सकता है।

दिल्ली-एनसीआर में रहने वालों के लिए एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए मेट्रो की सुविधा सबसे ज़्यादा मायने रखते हैं। जनता के लिए मेट्रो से सफर करना आरामदायक भी है और सस्ता भी। इसी वजह से मेट्रो में किसी भी तरह की परेशानी होते ही जनता के लिए परेशानियों का अंबार लग जाता है।

अब दिल्ली वासियों के लिए ये एक बुरी खबर हो सकती है, क्योंकि दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के करीब 9000 कर्मचारी हड़ताल पर जा सकते हैं। इन सारे नॉन-एग्जिक्यूटिव कर्मचारियों ने 30 जून से हड़ताल पर जाने की धमकी दी है।

पिछले कई दिनों से दिल्ली मेट्रो के कई स्टेशनों पर दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के कर्मचारी बांह पर काली पट्टी बांध कर प्रदर्शन करते हुए दिखाई दे रहे हैं। कई कर्मचारियों को बांह पर काली पट्टी बांध कर शांतिपूर्ण विरोध करते हुए देखा जा सकता है।

कर्माचरियों के हिसाब से उनकी मांग उनकी वेतन को लेकर है। दरअसल पिछले साल जुलाई के महीने में भी ऐसा ही हड़ताल कर्मचारियों ने की थी, लेकिन तब प्रबंधन ने बैठक करके सभी कर्मचारियों को मना लिया था।

फिलहाल कर्मचारियों का कहना है कि पिछली बैठक में जो वादे किये गए थे, उसे अब तक पूरे नहीं किये गए हैं। कर्मचारियों की मांग वेतन और वेतन पे ग्रेड में संशोधन, एरियर का भुगतान, किसी कर्मचारी को कैसे निकाला जाए, उसके लिए गाइडलाइन बनाना जैसी मांगें शामिल हैं। डीएमआरसी कर्मचारी संघ का मानना है कि दस साल से कई कर्मचारी एक ही पोस्ट पर हैं, जबकि पहले हर पांच साल पर प्रमोशन किया जाता था।

Back to top button