मंत्री ने महज 24 घंटे में आधुनिक अस्थाई कोविड अस्पताल बनवाकर प्रशासन को सौंपा

इस अस्पताल में एसी से लेकर टॉयलेट और सबसे अहम ऑक्सीजन तक की व्यवस्था

बाड़मेर: राजस्थान के बाड़मेर में गहलोत सरकार के राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने महज 24 घंटे में आधुनिक अस्थाई कोविड अस्पताल बनवाकर प्रशासन को सौंप दिया. इस अस्पताल में एसी से लेकर टॉयलेट और सबसे अहम ऑक्सीजन तक की व्यवस्था है. रेगिस्तान में बंक हाउस बनाने वाली कंपनी ने यह दावा किया है कि अगर सरकार चाहे तो इस महामारी में इस तरीके के अस्पताल वह चंद घंटों में तैयार करके प्रशासन को सौंप सकते हैं.

दरअसल, बाड़मेर जिले में अचानक बढ़े कोविड-19 के मरीजों के चलते जिला अस्पताल और बालोतरा उपखंड के नाहटा अस्पताल में बेड भर चुके हैं. ऐसे हालातों को देखते हुए राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने पचपदरा के सांभरा में 24 घंटों में कोविड 19 अस्थाई अस्पताल बनावा दिया.

लोगों के सहयोग और भामाशाहों के साथ से बनाया गया यह अस्पताल अब कोविड के मरीजों के लिए जीवन देने वाला साबित होगा. शनिवार को राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने एक मजदूर के हाथ से इसका उद्घाटन करवाया.

गौरतलब है कि जिस जगह पर कल तक बबूल के कंटीले पेड़ो का साम्राज्य था. आज उस जगह पर कोरोना के मरीजों को नया जीवन देने वाला कोविड अस्पताल बना नजर आया. राजस्व मंत्री ने 24 घंटे यहां खड़े रहकर इस अस्पताल का निर्माण करवाया. वह इस पूरे निर्माण का श्रेय भामाशाहों और आम जनता को दे रहे हैं.

मंत्री हरीश चौधरी ने कहा कि अस्पताल कोविड-19 महामारी में लोगों की मदद के लिए बनाया गया है. वहीं, अस्पताल को बनाने वाली कंपनी के मालिक ललित खत्री का यह दावा है कि सरकार चाहे तो ऐसे ही अस्पताल व चंद घंटों में बना सकते हैं, जिसमें हजारों लोगों को फायदा हो सकता है. अस्पताल में खाने-पीने से लेकर ऑक्सीजन तक की सुविधा उपलब्ध होगी. सिर्फ सरकार को मेडिकल सुविधा के लिए डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ लगाना पड़ेगा.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button