नवगठित गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही जिला आज से आएगा अस्तित्व में

ब्यूरो चीफ :विपुल मिश्रा

बिलासपुर: नवगठित गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही जिला आज 10 फरवरी से अस्तित्व में आएगा। इस जिले में तीन तहसील एवं तीन विकासखंड गौरेला, पेण्ड्रा एवं मरवाही होंगे।
तीनों विकासखंड के 162 पंचायतों के अंतर्गत कुल 225 गांव नए जिले में होंगे।

जिसमें गौरेला विकासखंड में 50 ग्राम पंचायत के अंतर्गत 87 गांव, पेण्ड्रा विकासखंड में 39 ग्राम पंचायत अंतर्गत 52 गांव तथा मरवाही विकासखंड में 73 ग्राम पंचायत अंतर्गत 86 गांव नये जिले में होंगे। कुल 86 पटवारी हल्के इस नए जिले में होंगे।

जिसमें गौरेला तहसील के अंतर्गत 31, पेण्ड्रा तहसील के अंतर्गत 21 एवं मरवाही तहसील के अंतर्गत 34 पटवारी हल्के तथा कुल 10 राजस्व निरीक्षक मंडल हांेगे। जिसमें गौरेला तहसील के अंतर्गत 3 पेण्ड्रा तहसील के अंतर्गत 3 एवं मरवाही तहसील के अंतर्गत 4 राजस्व निरीक्षक मंडल होंगे।

वहीं गौरेला विकासखंड के अंतर्गत 2 जिला पंचायत सदस्य के वार्ड एवं 16 जनपद सदस्य के वार्ड, पेण्ड्रा विकासखंड के अंतर्गत एक जिला पंचायत का वार्ड एवं 12 जनपद सदस्यों का वार्ड तथा मरवाही विकासखंड के अंतर्गत 2 जिला पंचायत के वार्ड एवं 22 जनपद सदस्यों के वार्ड आएंगे।

प्रदेश के नए जिले गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही की 4 लाख 14 हजार 3 सौ 27 की आबादी है। जिसमें गौरेला विकासखंड की आबादी 1 लाख 1 हजार 2 सौ 55 तथा गौरेला शहर की आबादी 18 हजार 1 सौ 65 है। पेण्ड्रा विकासखंड की आबादी 71 हजार 3 सौ 61 तथा पेण्ड्रा शहर की आबादी 14 हजार 1 सौ 20 है एवं मरवाही विकासखंड की आबादी 1 लाख 31 हजार 5 सौ 19 है।  

नया जिला गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही का क्षेत्रफल 1978 वर्ग किलोमीटर का रहेगा। गौरेला तहसील का क्षेत्रफल 778.10 वर्ग किलोमीटर जिसमें गौरेला ग्रामीण क्षेत्र का क्षेत्रफल 753.10 वर्ग किलोमीटर एवं गौरेला शहर का क्षेत्रफल 25 वर्ग किलोमीटर है। इसी तरह से प

Tags
Back to top button