सड़क निर्माण में ठेकेदार की मनमानी जारी,आधे-अधूरे निर्माण कार्य का खामियाजा भुगत रहे लोग 

इसकी वजह से सड़क निर्माण कार्य से दुर्घटनाओं में भी इजाफा हुआ

नगरी। सरकार ने नगरी विकासखण्ड की सड़कों की दशा सुधारने के लिए करोड़ों स्वीकृति दी है और इसके लिए बकायदा सड़कों का निर्माण कार्य भी शुरू हो चुका है। लेकिन निर्माण कार्य में न केवल देरी हो रही है बल्कि इसके घटिया निर्माण कार्य को लेकर लगातार सवाल उठ रहे हैं।

आधे-अधूरे सड़क निर्माण कार्य से दुर्घटनाओं में भी इजाफा हुआ है, जिसको लेकर क्षेत्रवासीयों में काफी नाराजगी है। इसके बाद भी सड़क निर्माण में ठेकेदारों द्वारा लापरवाही बरती जा रही है। 
 

   

चाहे सड़क निर्माण कार्य नगर पंचायत क्षेत्र मे जारी हो या ग्रामीण क्षेत्रों में चल रही हो ठेकेदार की लापरवाही के चलते आधे अधुरे बने सडक परेशानी की वजह बनी हुई है।

करोड़ों की लागत से निर्माणाधीन नगरी निरर्बेडा मार्ग हो या नगरी मंडी रोड कार्य प्रगति की धीमी गति का खामयाजा वाहन चालको को भुगतना पढ रहा है।

नेशनल हाईवे क्रमांक 206 के लिए 328 करोड़ तथा कनकतुरा से लेकर खरसिया तक बन रहे नेशनल हाईवे क्रमांक 49 के लिए 298 करोड़ की लागत आनी है और इन दोनों नेशनल हाईवे का निर्माण कार्य लगातार जारी है।

बीच-बीच में ठेकेदारों द्वारा मुरम के जगह चिकनी मिट्टी डालने से फरसिया, भोथली हिंछापुर बरसात के दिन होने से स्थिति बदतर हो गई है।

ग्रामीण कुमार सेन ने बताया की चीकनी मिट्टी बारिश में पुरी तरह से दलदल में तब्दील हो चुका है जिसकी वजह है सड़क में चलना बेहद परेशानी भरा कार्य हो चुका चुका है।

new jindal advt tree advt
Back to top button