St/Sc Act : सवर्णों का प्रदर्शन पूरा शहर रहा बंद, सरकार के खिलाफ जमकर की नारेबाजी.

एससी/एसटी एक्ट में नये अध्यादेश लाने का सवर्ण वर्ग कर रहे विरोध

मनीष शर्मा
मुंगेली।

St/Sc Act : छत्तीसगढ़ के समस्त सवर्ण नए अध्यादेश और जातीय आरक्षण को लेकर भाजपा और पीएम नरेंद्र मोदी का विरोध कर रहे है।

राज्य की भाजपा सरकार सवर्णों को मनाने की कोशिश में लगी हुई है,
लेकिन फिलहाल सवर्ण टस से मस होने को तैयार नहीं है।
भारत के लगभग सभी राज्यों के कई जिलों व तहसीलों में जातीय आरक्षण और
St/Sc Act में नये अध्यादेश लाने का सवर्ण वर्ग विरोध करने के लिए सड़कों पर उतर आया है।
इस बारे में सवर्णो का कहना है कि सड़क से लेकर संसद तक विरोध प्रदर्शन के हम सभी ने कमर कस ली है
और इस बार के विधानसभा व लोकसभा चुनाव में नोटा को ही वरीयता देंगे।
हमारे साथ भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस तरह से धोखाधड़ी करना कायराना हरकत जैसा है।

बिहार के कई जिलों में सवर्णों ने खुलेआम किया विरोध प्रदर्शन

इस संबंध में कुछ दिनों पहले बिहार के कई जिलों में सवर्णों ने खुलेआम विरोध प्रदर्शन कर नाराजगी जाहिर की थी
छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव होने हैं,
उसके पहले सवर्णों का विरोध काफी जगह जगह देखने को मिल रहा है।
पारंपरिक तौर पर अगड़ी जातियों को भाजपा का वोट बैंक माना जाता है।
ऐसे में सवाल यह है कि आगामी विधानसभा चुनाव में इस बार क्या सवर्णों की नाराजगी भाजपा को भारी पड़ेगी?

करणी और ब्राम्हण समाज कर रहे खुलकर विरोध

आज मुंगेली जिले के सभी ब्लॉकमुंगेली, पथरिया, लोरमी में सुबह से ही करणी सेना,
ब्राम्हण समाज ने केंद्र सरकार के इस फैसले के के खिलाफ खुलकर विरोध शुरू कर दिया
साथ ही पूरे शहर में सभी प्रतिष्ठानो से St/Sc Act के संशोधन के खिलाफ
भारत बंद के लिए समर्थन मांगा जिस पर पूरे व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे।
सुबह से ही चाय,पान की गुमटियां भी बंद रही।

St/Sc Act : बंद के दौरान पुलिस टीम जगह जगह तैनात

मुंगेली में आज बन्द के दौरान कोई अप्रिय स्थिति नही बनी पूरे शहर में बंद के दौरान जगह जगह पुलिस टीम तैनात रही।
केंद्र एवं छत्तीसगढ़ दोनों जगह भाजपा की सरकार है,
इसलिए इस कानून का ठीकरा भाजपा व मोदी पर फोड़ते हुए
सवर्णो अप्रत्यक्ष तौर से सत्तासीन भाजपा का विरोध ही माना जा सकता है।

इस संबंध में राष्ट्रीय ब्राम्हण महासंघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं छत्तीसगढ़ प्रभारी मनीष शर्मा ने कहा कि
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं भाजपा की सरकारें दलितों द्वारा किए गए जनआंदोलन से भयभीत हो गई
क्योंकि देश की कुल जनसंख्या में दलितों की आबादी 16 फीसदी से भी अधिक है।
ऐसे में भाजपा चाहती है कि दलितों की समस्याओं से जुड़ी रहे और
इस आरोप से बच भी जाये कि St/Sc Act के चलते भाजपा सरकार दलित विरोधी है साथ ही आने वाले चुनावों में वोट बैंक में कोई प्रभाव ना पड़े।
यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सोची समझी साजिश है।


ताज़ा हिंदी खबरों के साथ अपने आप को अपडेट रखिये, और हमसे जुड़िये फेसबुक और ट्विटर के ज़रिये

Tags
Back to top button