जाने किस शख्स ने दी साइबर एक्सपर्ट को धमकी ,पढ़े पूरी खबर

एक अज्ञात व्यक्ति (सुभाष मौर्य )द्वारा साइबर एक्सपर्ट मोनाली गुहा को बीते कुछ दिनों से अभद्र एसएमएस और कॉल करके धमकियां दी जा रही थीं

रायपुर :आज के समय मे महिलाओं से फ़ोन पर अभद्र व्यवहार आम अपराध हो चला है ,महिलाएं कोर्ट कचहरी और अपराधियों के डर से अपनी समस्या पुलिस से तो दूर घर वालों से भी शेयर नही करती और इसी बात का फायदा उठा कर इस तरह के मामलों में अपराधी दिन पर दिन छोटी से बड़ी वारदातों को अंजाम देते हैं । ऐसा ही एक वाक्या साइबर एक्सपर्ट के साथ भी हुआ लेकिन आरोपी को ज़रा भी अंदाज़ा नही था कि उसने ऐसा करके अपने ही पैर पर कुल्हाड़ी मार ली है ।

एक अज्ञात व्यक्ति (सुभाष मौर्य )द्वारा साइबर एक्सपर्ट मोनाली गुहा को बीते कुछ दिनों से अभद्र एसएमएस और कॉल करके धमकियां दी जा रही थीं ,बार बार समझाने के बाद भी उसका ये सिलसिला ये कह कर चलता रहा कि लड़की है क्या कर लेगी,देख लूंगा । लगातार परेशान किए जाने के बाद साइबर एक्सपर्ट ने स्वयं पहले तफ्तीश करने की बजाय कानून की मदद से इसे धर दबोचने का मन बनाया और पुरानी बस्ती थाना जाकर एफआईआर दर्ज कराई ताकि कानून को ,कुछ भी न समझने वाले इस तरह के आपराधिक तत्वों के हौसले पस्त हों । एफआईआर दर्ज कर प्रोविजनल डीएसपी विक्रांत राही ने इस मामले में तत्परता दिखाई और ज़िम्मेदारी के साथ दिन रात एक कर सुभाष मौर्य (+919746800643) नामक आरोपी को योजनाबद्ध तरीके से 24 घंटे के भीतर धर दबोचा ,पुलिस के सामने आरोपी ने अपना गुनाह भी कुबूल कर लिया ।

आरोपी ने कबूला जुर्म

पुलिस के सामने जुर्म कुबूल कर आरोपी सुभाष मौर्य ने कहा कि मुझे पता नही था कि जिस लड़की को मैं परेशान कर रहा था वो मेरी धमकियों से नही डरेगी ,मैं इसी भ्रम में था कि पुलिस तो ऐसे मामले में कुछ करती नही है और लड़की ही तो है देख लूंगा, जो चाहे करूँ मेरा कोई कुछ नही बिगाड़ पाएगा ।मुझे ज़रा भी अंदाज़ा नही था कि ऐसा कुछ हो जाएगा और मेरा जुर्म दुनिया के सामने आजाएगा ।

प्रोविजनल डीएसपी विक्रांत ने कहा- अपराधियों के हौसले पस्त करने के लिए उदाहरण है ये केस

प्रोबेशनल डीएसपी विक्रांत राही ने कहा कि आम तौर पर अपराधियों की यही मानसिकता होती है कि हम जो चाहे करें हमें पुलिस कभी नही पकड़ पाएगी । और महिलाएं कभी घर परिवार और समाज के डर से थाने कोर्ट कचहरी के चक्कर नही लगाएंगी न घर वाले इन सब मे पड़ने देंगे ! कानून को कमज़ोर और खुद को शातिर समझना ही इनकी सबसे बड़ी भूल होती है । टेक्नोलॉजी के इस युग मे अपराध का माध्यम खुद टेक्नोलॉजी ही बन गई है ऐसे में अपराधी ये सोचते हैं कि कोई हमें कैसे पकड़ सकता है ,बेधड़क अपराधों को अंजाम देते हैं लेकिन पुलिस भी टेक्नॉलॉजी के साथ कदम से कदम मिला कर चलती है और अपराधी ओवरकांफिडेन्स में आकर अपने ही पैर पर कुल्हाड़ी मार लेता है और पकड़ा जाता है ।

साइबर अपराध और क्रिमिनल साइकोलोजी के बेहतर विश्लेषक हैं विक्रांत

आरोपी की बातचीत के अंदाज़ से ही विक्रांत राही और साइबर एक्सपर्ट्स की टीम ने अंदाज़ा लगा लिया था कि ये किस आपराधिक मेन्टल स्टेट का है और किस तरह से इसे गिरफ्त के जाल में फांसा जाए , बिरगांव उरला क्षेत्र में मजदूर के समकक्ष काम करने वाला सुभाष मौर्य उधार पैसे और सामानों से अपने दोस्त रविंदर के साथ रहता था ,किराने के बकाया कर्ज का बहाना बना कर साइबर एक्सपर्ट्स ने उसके नंबर पर एक अन्य नंबर से कॉल किया और पैसे लेने के बहाने से उसके घर का पता उगलवाया ,तबतक डीएसपी साइबर सेल और साइबर एक्सपर्ट्स की मदद से आरोपी की तमाम डिजिटल इन्फॉर्मेशन और लोकेशन पता कर ली गयी थी । आरोपी के बताए पते और डिजिटल इन्फॉर्मेशन का फौरन एनालिसिस किया गया और आरोपी के काम से घर लौटते ही पुलिस ने उसे धर दबोचा ।

साइबर एक्सपर्ट मोनाली गुहा ने कहा- कि अपराधियों की धमकियों से कभी न घबराएं महिलाएं ,बेबाकी से करें एफआईआर

साइबर एक्सपर्ट मोनाली गुहा ने कहा कि अपराधी की जानकारी एकत्र करना उनके या उनकी टीम के लिए कोई कठिन कार्य नही था ,वे स्वयं अपराधियों को पकड़ने के लिए कई केसेस में पुलिस की मदद कर चुकी हैं लेकिन इस घटना के बाद उन्होंने कानून के रास्ते पर चल कर अपराधी की धरपकड़ की मनशा बनाई ताकि पुलिस की तत्परता देख ऐसे अपराधियों के हौसले पस्त हों और महिलाएं अपने अधिकार और पुलिस सहायता के लिए सकारात्मक नज़रिया अपनाकर जागरूक हो सकें ।उन्होंने ऐसे जज़्बे और तत्परता के लिए पुलिस शक्ति को सलाम कहा ।

प्रोविजनल डीएसपी विक्रांत राही को किया सम्मानित

साइबर फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स सोनाली गुहा एवं आयुष गुहा ने प्रोविज़शनल डीएसपी विक्रांत राही को टैक्नोकिंग वेब्सॉफ्ट सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड एन्ड साइबर फोरेंसिक्स की ओर से सम्मानित किया । और कहा कि ऐसे ज़िम्मेदार ,देश सेवा के लिए तत्पर और कर्मठ पुलिस ऑफिसर न सिर्फ छत्तीसगढ़ और पुलिस विभाग बल्कि पूरे देश के लिए एक आदर्श उदाहरण हैं । उन्होंने इस बड़ी सफलता और तत्पर कार्रवाई के लिए विक्रांत राही को बधाई एवं शुभकामनाएं दीं और कहा कि ये एक बेहद सराहनीय कदम है और ऐसे संवेदनशील और सक्रिय ऑफिसर के होते हुए छत्तीसगढ़ की जनता भी खुद को सुरक्षित एवं गौरवान्वित महसूस करेंगी ।

जल्द होगी साइबर सिक्योरिटी अवेयरनेस मिशन के तहत फिर एक निःशुल्क कार्यशाला

साइबर एक्सपर्ट्स ने बताया कि अपने इस मिशन के तहत वे अब तक 10 हज़ार से ज्यादा लोगों को साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में जागरूक कर चुके हैं ऐसे में विशेष रूप से महिला सुरक्षा को लेकर अगली निःशुल्क कार्यशाला आयोजित की जाएगी जिसमें आम जनता निःशुल्क ट्रेनिंग ले सकेगी ।<>

new jindal advt tree advt
Back to top button