ज्योतिष

कुंडली के ग्रहों को समय रहते ऐसे करें शांत, तभी शादी की समस्या का मिलेगा निदान

आचार्य पं. श्रीकान्त पटैरिया (ज्योतिष विशेषज्ञ) छतरपुर मध्यप्रदेश, आप ज्योतिषीय सलाह तथा अपनी समस्या के लिए सम्पर्क कर सकते हो, सम्पर्क: 9131366453

बेटी के बड़ी होते ही उसके विवाह की चिंता माता पिता को सताने लगती है और जब कुंडली की गड़बडी की वजह से  शादी में विलंब होते हैं तो माता-पिता के लिए परेशानियां और बढ़ जाती है।अगर आप भी अपनी बेटी की शादी को लेकर परेशान है  और शादी तय होने में बार-बार रुकावट आ रही हो तो शादी  में बाधक ग्रह के लिए उपाय करने से  अनुकूल परिस्थितियां  बनती है और शीघ्र उत्तम घर व वर मिलने में मदद मिलती हैं तो आप इन उपायों को करेंअगर शादी में हुई है विलंब….

अगर ऐसी हो कुंडली

किसी भी इंसान के जीवन में कुंडली में स्थित ग्रहों और उनकी स्थिति का बहुत प्रभाव पड़ता है। सातवें भाव, सप्तमेश, लग्नेश, शुक्र एवं गुरु की स्थिति को ध्यान में रखकर किया जाता है। सप्तम भाव इसलिए, क्योंकि कुंडली में विवाह से संबंधित भाव यही है। सप्तमेश को देखना इसलिए आवश्यक है क्योंकि वही इस भाव का स्वामी होगा। कन्या की कुंडली में गुरु की स्थिति प्रमुख रूप से विचारणीय होती है क्योंकि उनके लिए गुरु पति का स्थायी कारक है। लग्नेश का सप्तमेश एवं पंचमेश के साथ संबंध भी विवाह को प्रभावित करता है। विवाह संबंधी प्रश्नों में लग्न कुंडली, चंद्र कुंडली और नवमांश कुंडली तीनों से ही विचार करना चाहिए। जन्म कुंडली में कुछ ऐसे योग होते हैं, जो जातिका के विवाह में विलंब का कारण बनते हैं।

क्या है वजह

जन्म कुंडली में शुक्र वैवाहिक सुख से संबंधित है। वहीं महिलाओं के लिए गुरु पति, पुत्र और धन का प्रतीक ग्रह है। पति सुख के लिए महिलाओं की कुंडली में गुरु की स्थिति विचारणीय है। सप्तम भाव में शनि डालता है, विघ्न: स्त्री की कुंडली में सप्तम भाव में शनि या चौथे भाव में मंगल आठ अंश तक हो तो विवाह में बाधा आती है। इसी प्रकार स्त्री कुंडली में सप्तम भाव के स्वामी के साथ शनि बैठा हो तो विवाह देरी से  बहुत उम्र होने पर होती है।

ग्रहों का गोचर भी प्रभावित करता

सातवें भाव में शनि हो और कोई पापी ग्रह उसे देखता हो तो उस जातक की शादी में देरी होती है। शनि, सूर्य, राहु, 12वें भाव का स्वामी (द्वादशेश) और राहु अपनी राशि का स्वामी (जैसे राहु मिथुन राशि में बैठा हो तो, मिथुन का स्वामी बुध राहु अधिष्ठित राशि का स्वामी होगा) यह पांच ग्रह विच्छेदात्मक  होते हैं। इनमें से किन्हीं दो या अधिक ग्रहों की युति या दृष्टि का संबंध जन्म कुंडली के जिस भाव स्वामी से होता है तो उससे नुकसान पहुंचता है।

करें गुरुवार

सर्वप्रथम विवाह में बाधक ग्रहों की पहचान होने के बाद  उस ग्रह से संबंधित व्रत, दान, जप आदि करने चाहिए। पितृ शांति कराएं। पति के कारक ग्रह गुरु का व्रत विशेष लाभकारी होते हैं। इस दिन हल्दी मिश्रित जल केले को चढ़ाएं, घी का दीपक जलाएं और गुरु मंत्र ओम ऐं क्लीं बृहस्पतये नम: का जप करें। गुरुवार को पके केले स्वयं नहीं खाएं। इनका दान करें। विवाह योग्य कन्या को मकान के वायव्य दिशा में सोना चाहिए। ऐसा करने से शादी जल्दी होती है।

ये उपाय जल्द से जल्द आपके सपनों का राजकुमार से आपको मिलवाएगा। गुरुवार को किसी शुभ योग में गुरु वृहस्पति का जप करें। यह क्रिया ग्यारह गुरुवार करें, उत्तम वर व घर शीघ्र मिलेगा।

सात सोमवार तक नियमित रूप से पारद शिवलिंग के सम्मुख इस मंत्र शिव मंत्र का जप सोमवार को करें। योग्य वर के साथ शीघ्र विवाह के योग बनेंगे।
ओम ह्नीं कुमाराय नम: स्वाहा।
महाविद्या भुवनेश्वरी यंत्र के सम्मुख इस मंत्र का सवा लाख जप करें, उत्तम वर से शीघ्र विवाह के योग बनेंगे।

कन्या 21 दिन में 41 हजार जप तथा कात्यायिनी का पूजन करे विवाह शीघ्र होगा,
कात्यायिनी महामाये महायोगिनीधीश्वरी।
नन्द-गोपसुतं देवि! पतिं में कुरु ते नम: ।।
इन सारे उपाय को करने से जिन लोगों की शादी में विलंब हो रहा है। उनकी शादी जल्दी होगी। इन उपायों को करने से पहले इस बात का भी ध्यान रखें कि इनको करने से पहले पूरी श्रद्धा से इसका पालन करें तभी सार्थक फल मिलेगा।

किसी ज्योतिषीय को अपनी कुण्डली दिखा कर के ही जाप पूजन करे या करवाए,
 
 यदि आप अपनी किसी समस्या के लिए आचार्य पं. श्रीकान्त पटैरिया (ज्योतिष विशेषज्ञ) नि:शुल्क ज्योतिषीय सलाह चाहें तो वाट्सएप नम्बर 9131366453 पर सम्पर्क कर सकते हैं।

Tags
Back to top button