प्रधानमंत्री ने कहा- सरकार के प्रयास और समर्थन से बैंकिंग क्षेत्र की स्थिति मजबूत हुई

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा है कि पिछले छह-सात वर्षों में सरकार के प्रयासों और समर्थन से बैंकिंग क्षेत्र आज मजबूत स्थिति में आ गया है। उन्‍होंने कहा कि बैंकों की वित्‍तीय स्थिति अब पहले से बेहतर है। नई दिल्‍ली में ऋण के निर्बाध प्रवाह और आर्थिक विकास पर सम्‍मेलन को संबोधित करते हुए श्री मोदी ने कहा कि किसी भी देश की विकास यात्रा में एक समय ऐसा आता है, जब वह नई उमंग के साथ संकल्‍प सिद्धी को प्राप्‍त करता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उस निश्‍चय को पूरा करने के लिए सारा देश एकजुट हो जाता है। उन्‍होंने कहा कि लक्ष्‍य तय हो चुका है और इसे हासिल करने के लिए हम मजबूत धरातल पर हैं। उन्‍होंने कहा कि बैंक देश के विकास में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

श्री मोदी ने कहा कि बैंकों के पास पर्याप्‍त मात्रा में धन है। उन्‍होंने बताया कि जन धन खाते खोलने से अनेक लोगों को बैंकिंग सेवा के दायरे में लाया जा सका है। श्री मोदी ने कहा कि मौजूदा सरकार ने 2014 के बाद से पांच लाख करोड रुपये की रिकवरी की है। उन्‍होंने कहा कि सरकार 2014 के पहले से मौजूद सभी चुनौतियों से निपटी है।
कोविड के दौरान देश में स्ट्रेस एसेट मैनेजमेंट वर्टिकल का गठन किय गया। इस फैसले से आज बैंकों की रिकवरी बेहतर है और उनकी स्थिति मजबूत है। श्री मोदी ने इस बात को रेखांकित किया कि मौजूदा सरकार ने फंसे हुए ऋण के मुद्दे पर ध्‍यान दिय, बैंकों का पुनर्पूंजीकरण किया, उनकी ताकत बढ़ाई, आईबीसी जैसे सुधार लाए, कानूनों में सुधार किया और ऋण वसूली न्यायाधिकरण को मजबूत किया।

इससे पहले, आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि बैंकों को अब उभरते क्षेत्रों तथा सूक्ष्‍म, लघु और मध्‍यम उद्यम पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रक्रिया, रोजगार सृजन और उच्च उत्पादकता के बीच अधिकतम संतुलन की आवश्यकता है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button