मध्यप्रदेशराजनीतिराज्य

जोर-शोर से शुरू हुआ ‘शुद्धिकरण अभियान’ ठंडे बस्ते में चला गया: भाजपा

शुद्धिकरण का अभियान संभाल रही उपाध्यक्ष ने दिया बीजेपी को जवाब

भोपाल: मध्य प्रदेश में 27 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं. इनमें 25 विधानसभा सीट ऐसी हैं, जहां पर 2018 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के विधायक निर्वाचित हुए थे, लेकिन वे पार्टी बदलकर बीजेपी में शामिल हो गए. इससे ये सीटें रिक्त हो गई हैं.

इन्हीं विधानसभा सीटों को शुद्ध करने और मतदाताओं को फिर से कांग्रेस को वोट देने के लिए पार्टी ने बीते दिनों गंगाजल से ‘शुद्धिकरण अभियान’ की शुरुआत की थी. लेकिन ‘शुद्धिकरण अभियान’ को लेकर एक बार फिर सियासत गरमा गई है.

बीजेपी प्रवक्ता उमेश शर्मा ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि जोर-शोर से शुरू हुआ ‘शुद्धिकरण अभियान’ अपनों के विरोध के चलते ठंडे बस्ते में चला गया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस बताए अब तक कहां-कहां जल का वितरण किया गया.

बीजेपी प्रवक्ता उमेश शर्मा ने कहा कि कांग्रेस के अंदर इतना फूट है कि गंगा के नाम पर भी एक नहीं हो पाए. कांग्रेस ऐसा करके सिर्फ दिखावे की राजनीति करना चाहती थी और प्रदेश की जनता को भ्रमित करना चाहती थी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस का शुद्धिकरण अभियान फ्लॉप हो गया है और पार्टी का यही हाल उपचुनाव में होगा.

वहीं, प्रदेश में कांग्रेस के गंगा जल से शुद्धिकरण का अभियान संभाल रही उपाध्यक्ष अर्चना जायसवाल ने उमेश शर्मा का जवाब दिया है. उन्होंने कहा कि प्रदेश में अभी कोरोना का प्रकोप जारी है, इसलिए इसका अभियान आगे दिखेगा. अर्चना जायसवाल ने कहा कि हमे बीजेपी को दिखाने की जरूरत नहीं है. हम अपना काम कर रहे हैं.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button