Warning: mysqli_real_connect(): Headers and client library minor version mismatch. Headers:50562 Library:100138 in /home/u485839659/domains/clipper28.com/public_html/wp-includes/wp-db.php on line 1612
निर्माण और विकास के नए दौर में सहभागी बने ग्रामीण - Clipper28 Digital Media

निर्माण और विकास के नए दौर में सहभागी बने ग्रामीण

महिलाओ को गैस सिलेन्डर एंव कृषको को मिले वनाधिकार पट्टे

कोण्डागांव : ’’अब समय आ गया है कि अपने जीवन की दशा और दिशा बदलने के लिए क्षेत्र के ग्रामीण अपने सर्वोत्तम भागीदारी निभायें क्योकिं जिला प्रशासन इस पिछड़े क्षेत्र के अधिकाधिक विकास के लिए पुरजोर प्रयास कर रहा है विकास की अपार सम्भावना वाले इस क्षेत्र की तस्वीर बदलने के लिए सड़को का जाल बिछाया जा रहा है नदी नालो पर पुल पुलिया का निर्माण, शिक्षा के लिए नये शाला भवन, कृषि हेतु उन्नत फसलो का प्रयोग, नदी तट के खेतो मे सोलर पम्प के अलावा ग्रामो की महिला स्व-सहायता समुह के लिए रोजगार के नये साधन जटाने के लिए भरसक कोशिशे जारी है क्योकि खुशहाल ग्रामीण ही सशक्त राज्य की आधार शिला होतें है’’।

विकासखण्ड फरसगांव के दूरस्थ ग्राम बड़गई मे आयोजित जनसमस्या निवारण शिविर में जिला कलेक्टर नीलकण्ठ टीकाम द्वारा उक्ताशय के विचार प्रकट किये गये। इस दौरान जनपद अध्यक्ष सुकमी नेताम, पूर्व जनपद अध्यक्ष झाड़ी राम सलाम, मानकू राम मरावी, निर्मल नाग (सरपंच ग्राम मोेदे), यदुदास मानिकपुरी (बड़ेडोंगर), शंकर शार्दुल (उरंदा बेड़ा), दिनेश दुग्गा (भोंगापाल), रूपोती नेताम (सरपंच बड़गई) सहित भारी संख्या में ग्रामीण महिलाये एंव पुरूष उपस्थित थे। इस दौरान कलेक्टर ने ग्रामीण से विकास की मुख्य धारा में जुड़ने का आहवान करतें हुये कहा कि जिले मे चल रहे सभी निर्माण कार्यो में स्थानीय व्यक्तियों की भागीदारी होनी चाहिये।

शिक्षा एंव पोषण के विषय पर अपनी बात रखतें हुए उन्हांेने कहा कि सर्वप्रथम पालक अपने 0 से 5 वर्ष तक के बच्चो के पोषण पर शुरूवात से ही ध्यान देंवें बच्चो के खानपान रहन सहन पर सतत् निगरानी एंव आंगन बाड़ी नियमित रूप से भेजने पर कुपोषण की समस्या ही नही रहेगी शिक्षा के महत्व को समझाते हुए उन्होने कहा कि शिक्षा प्रत्येक बच्चे का जन्मसिद्ध अधिकार है अक्सर पालक अपने स्कूल जाने वाले बच्चो को स्कूल ना भेजकर ढ़ोर डंगर चराने के लिए भेज देते है यह प्रवृत्ति बच्चो के भविष्य के साथ खिलवाड़ है और इसे बदलने की जरूरत है। इसके साथ ही उन्होने उपस्थित अधिकारियों को नसीहत देते हुए कहा कि वे ग्रामीणो की मांगो एंव समस्याओं संबंधी आवेदनो पर संवेदनशील बने। इस दौरान उन्होने ग्राम बड़गई में महिलाओ एंव किशोरियो के लिए एंव ग्राम भोंगापाल में युवको के लिए स्व-रोजगार प्रशिक्षण सत्र प्रारंभ करने की बात कही और बताया कि इस प्रशिक्षण सत्र में युवको के लिए कुक्कुट, गाय, सुकर पालन तथा दलहन एंव तिलहन फसलो की उन्नत तकनीक से फसल लेने एवं महिलाओ को सिलाई प्रशिक्षण आदि दिये जायेंगे।

विभिन्न ग्रामो के सरपंचों ने सौपे मांगपत्र –
शिविर स्थल में गा्रम बड़गई के अलाव मोदे बेड़मा, कोलंगा, कोनगुड़, बोकड़ाबेड़ा, गदड़ा, करमरी, उरंदाबेड़ा, मुल्ले, कनारगांव, बारदा, बडे़डोगर, ओड़ागांव, भण्डापाल क्षेत्र के संरपंच के उपस्थित थे। जिसमें ग्राम मोदे के सरपंच द्वारा मोदे धनोरा मार्ग पर पुल निर्माण, कोकोड़ा जुगानार में नाली निर्माण, ग्राम उरंदाबेड़ा में पुलिया, एंव मक्का खरीदी केन्द्र की स्थापना, भण्डापाल देवगांव को नारायणपुर जिला से जोड़ने, बोकड़ाबेड़ा के 135 घरो में विद्युत कनेक्शन, ग्राम भोंगापाल के नृतक दलो द्वारा नृत्य पोशाक संबंधी आवेदनो से कलेक्टर को अवगत कराया गया इस पर कलेक्टर ने शीघ्र पूरा करने का आश्वासन दिया।

नाचा दल के कलाकारो ने दी सांस्कृतिक प्रस्तुति
इस अवसर पर ग्राम मस्सुकोकोड़ा के नाचा दल ’’मोचो मया’’ के कलाकारो ने लोक नृत्य गीत एंव प्रहसन के माध्यम से शासकीय योजनाओ की जानकारी उपस्थित ग्रामीणो को दिया उन्नत कृषि, कन्या साक्षरता, आंगनबाड़ी के महत्व एंव स्वच्छता अभियान से जुड़े विषयो पर आधारित नृत्य संगीत का ग्रामीण जनो से मुक्त कण्ठ से सराहना किया। इसके साथ ही स्कूल की छात्राओं के नृत्य गीत प्रदर्शन को भी कलेक्टर की ओर शाबासी मिली।

उज्जवला योजना एंव वनाधिकार पट्टे दिये गये ग्रामीणो को
शिविर स्थल में ही ग्राम भोंगापाल, के 09, गोहड़ा के 17, बड़गई के 07, मिश्री के 02, एंव झाकरी के 06 कृषको को वनाधिकार पत्र प्रदाय किये गये। इसी प्रकार प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत 07 हितग्राही महिलाओ को गैस स्टोव एंव सिलेंडर तथा क्रेडा विभाग द्वारा 08 हितग्राहियो को कटआउट वितरण किया गया। शिविर में कुल 148 आवेदन प्राप्त हुए जिनमें 129 का मौके पर ही निराकरण किया गयां इसके अलावा सभी विभाग के अधिकारियों द्वारा बारी-बारी से अपने विभाग मंे संचालित योजनाओ के बारे में जानकारी तथा मार्गदर्शन भी दिया गया। इस दौरान अनुविभागीय अधिकारी राजस्व खेमलाल वर्मा,सहायक आयुक्त आदिवासी विकास जी.आर.सोरी, डिप्टी कलेक्टर धनजंय नेताम, खाद्य अधिकारी अनुराग भदौरिया सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

new jindal advt tree advt
Back to top button