टेक्नोलॉजीराष्ट्रीय

दुश्मनों को पस्त करने वाला राफेल विमान की दूसरी खेप आज पहुंचेगी भारत

फ्रांस से नॉन स्टॉप उड़ान भरकर भारत पहुंचेंगे तीन राफेल विमान

नई दिल्ली:भारत को आज राफेल की दूसरी खेप मिलने जा रही है. राफेल विमान फ्रांस से सीधे आज गुजरात के जामनगर एयरबेस पर पहुंचेंगे. एक के ब्रेक के बाद तीनों राफेल अंबाला पहुंच सकते हैं.

एयरफोर्स के अधिकारियों ने इसके लिए तैयारियां पूरी कर ली हैं, जबकि राफेल की पहली खेप हरियाणा के अंबाला पहुंची थी, तब से ही अधिकारी राफेल की दूसरी खेप के स्वागत के लिए पूरी तरह से तैयार हैं. अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी.

इस खेप में तीन राफेल विमान फ्रांस से नॉन स्टॉप उड़ान भरकर भारत पहुंचेंगे. इन विमानों के साथ मिड एयर रिफ्यूलिग एयरक्राफ्ट भी होगा. इससे पहले 28 जुलाई को पांच राफेल भारत पहुंचे थे और 10 सितंबर को अंबाला में आधिकारिक तौर पर विमानों को भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था. भारत ने फ्रांस से कुल 36 राफेल विमानों का सौदा किया है.

देश को 5 राफेल मिल चुके हैं. आज तीन और आ जाएंगे. इसके बाद तीन विमान जनवरी और फिर मार्च में 3, अप्रैल में 7 राफेल लड़ाकू विमान भारत को मिल जाएंगे. इस तरह अगले साल अप्रैल तक देश में विमानों की संख्या 21 हो जाएगी. इसमें से 18 लड़ाकू विमान गोल्डन एरो स्क्वाड्रन में शामिल हो जाएंगे.

भारत ने राफेल सौदे में कितने खर्च किए? भारत ने राफेल सौदे में करीब 710 मिलियन यूरो (यानि करीब 5341 करोड़ रुपये) लड़ाकू विमानों के हथियारों पर खर्च किए हैं. पूरे सौदे की कीमत करीब 7.9 बिलियन यूरो है यानी करीब 59 हजार करोड़ रुपये.

राफेल का फुल पैकेज कुछ इस तरह है. 36 विमानों की कीमत 3402 मिलियन यूरो, विमानों के स्पेयर पार्ट्स 1800 मिलियन यूरो के हैं, जबकि भारत के जलवायु के अनुरुप बनाने में खर्चा हुआ है 1700 मिलियन यूरो का. इसके अलावा परफॉर्मेंस बेस्ड लॉजिस्टिक का खर्चा है करीब 353 मिलियन यूरो का.

एक विमान की कीमत करीब 90 मिलियन यूरो है यानी करीब 673 करोड़ रुपये. लेकिन इस विमान में लगने वाले हथियार, सिम्यूलेटर, ट्रैनिंग मिलाकर एक फाइटर जेट की कीमत करीब 1600 करोड़ रुपये पड़ेगी.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button