कोरोना की दूसरी लहर ने तोड़ी कमर.. देश में एक करोड़ से ज्यादा लोग हुए बेरोजगार

97 फीसदी परिवारों की घट गई इनकम

नई दिल्ली। कोरोना की दूसरी लहर ने देश में भारी तबाही मचाई है। चारों तरफ मौत की खबरों ने लोगों के होश उड़ा दिए। कोई दवाई के लिए तो कोई बेड के लिए रोते बिलखते हुए नजर आया। इस भयावह स्थिति के बाद अर्थव्यवस्था पूरी तरह से गड़बड़ा गई है। इसका सीधा असर आम आदमी पर दिख रहा है।

ताजा आंकड़ों में जो खुलासा हुआ जानकर आपको भी बड़ा झटका लगेगा। दरअसल कोरोना की दूसरी लहर की वजह से भारत में एक करोड़ से ज्यादा लोग बेरोजगार हो गए हैं। वहीं कोरोना की शुरुआत से लेकर अब तक करीब 97 फीसदी परिवारों की इनकम घट गई है।

सेंटर फॉर इंडियन इकॉनोमी (CMIE) के चीफ एग्जिक्यूटिव महेश व्यास ने सोमवार को ये आंकड़े जारी किए हैं। समाचार एजेंसी पीटीआई को महेश व्यास ने बताया कि मई के महीने में बेरोजगारी की दर 12 फीसदी तक पहुंच सकती है, जो कि अप्रैल में 8 फीसदी पर थी।

इस दौरान करीब एक करोड़ लोग बेरोजगार हुए, जिसका मुख्य कारण कोरोना की दूसरी लहर ही है। महेश व्यास के अनुसार अब जब आर्थिक गतिविधियां खुल रही हैं तो कुछ ही दिक्कत कम होगी, पूरी नहीं।

आंकड़ों पर नजर डाले तो मई 2020 में बेरोजगारी की दर 23.5 फीसदी तक पहुंच गई थी, तब नेशनल लॉकडाउन लगा हुआ था। लेकिन इस साल जब कोरोना की दूसरी लहर आई तो धीरे-धीरे राज्यों ने अपने स्तर पर पाबंदी लगाई और जो काम शुरू हो गए थे, फिर बंद हो गए। महेश व्यास के मुताबिक, अगर बेरोजगारी दर 3-4 फीसदी तक रहती है तो वह भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए नॉर्मल मानी जाएगी। सेंटर फॉर इंडियन इकॉनोमी के अनुसार कोरोना की दूसरी लहर में 10 मिलियन से ज्यादा लोग बेरोजगार हुए। इनमें शहरी बेरोजगारी दर 14.73 प्रतिशत है, ग्रामीण बेरोजगारी दर मई में 10.63 प्रतिशत है। मई महीने में देशव्यापी बेरोजगारी दर 11.90 प्रतिशत दर्ज किया गया है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button