विधान परिषद के सभापति के बेटे की गला घोंटकर हत्या, आरोपी गिरफ्तार

बिना पोस्टमार्टम कराए अंतिम संस्कार की तैयारी कर चुके थे

उत्तर प्रदेश :

विधान परिषद के सभापति रमेश यादव के छोटे बेटे की हत्या का मामला सामने आया है । जानकारी के मुताबित सभापति रमेश यादव के छोटे बेटे की हत्या सरकारी आवास में ही गला घोटकर की गई । उसका शव रविवार सुबह बिस्तर पर पड़ा मिला। एएसपी पूर्वी सर्वेश मिश्रा के अनुसार हत्या का शक मां मीरा यादव पर है।

पुलिस ने अभिजीत की मां को गिरफ्तार कर लिया है। उन्होंने बताया कि मीरा अभिजीत की नशे की आदत से आजिज आ चुकी थी। रात में भी वह शराब के नशे में घर आया। इसी को लेकर दोनों में विवाद हुआ था।

इस बीच, बड़े भाई अभिषेक की तहरीर पर हजरतगंज थाने में देर रात अज्ञात के खिलाफ साक्ष्य छिपाने व हत्या का केस दर्ज कर लिया गया।इससे पहले एडीजी कानून-व्यवस्था आनंद कुमार ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में अभिजीत के सिर पर वार करने और गला घोंटकर हत्या करने की पुष्टि हुई है।

एसएसपी कलानिधि नैथानी से विस्तृत रिपोर्ट मांगी गई है। मूल रूप से एटा के रहने वाले रमेश की दूसरी पत्नी मीरा दारूलशफा के बी-ब्लॉक में बड़े बेटे अभिषेक व छोटे अभिजीत के साथ रहती हैं। मीरा पर्यटन विभाग में अधिकारी थीं।

उन्होंने कुछ दिन पहले ही इस्तीफा दे दिया था। घटना के वक्त मीरा व अभिषेक घर में ही मौजूद थे और दरवाजा अंदर से बंद था। रमेश की पहली पत्नी भी लखनऊ में ही रहती हैं। उनका बेटा आशीष एटा से विधायक रहा है।

शवयात्रा रोककर कराया पोस्टमार्टम
अभिजीत की मौत का पता चलने पर हजरतगंज पुलिस उनके घर पहुंची तो परिवारीजनों ने नाराजगी जताई। परिवारवाले आनन-फानन में बिना पोस्टमार्टम कराए अंतिम संस्कार की तैयारी कर चुके थे।

रमेश यादव के पहुंचने से पहले ही पुलिस को रौब दिखाकर शव लेकर बैकुंठ धाम के लिए निकल पड़े। इसी बीच, एसएसपी कलानिधि नैथानी ने शवयात्रा रोककर पोस्टमार्टम कराने का निर्देश दिया। रात करीब सवा आठ बजे सभापति के पहुंचने के बाद अभिजीत का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

Back to top button