स्कूल के छात्र-छात्राओं ने जैविक खाद बनाने की प्रक्रिया को प्रशिक्षण लेकर समझा

सोनू सेन:

पिथौरा(बारनवापारा): स्थानीय शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के साथ स्कूल के छात्र-छात्राओं ने जैविक खाद बनाने की प्रक्रिया को प्रशिक्षण लेकर समझा।

प्रशिक्षणार्थियों को समझा कर किया प्रशिक्षित

वन विभाग के अमलों ने अपने विभागीय विश्राम गृह बार नवापारा परिसर में जैविक खाद बनाने के लिए निर्मित टैंकों में केंचुए की मदद से कचरों इत्यादि के इस खाद के रूपांतरित हुए रूपों को दिखा खाद बनने की प्रक्रिया को सरलता से प्रशिक्षणार्थियों को समझा कर प्रशिक्षित किया।

प्रशिक्षुओं ने यहां इन टैंकों का न केवल निरीक्षण किया बल्कि इसमें जैविक खाद के रूप में तब्दील हुए भूर-भूरे खाद को अपने हाथों से छूकर कर भी परखा।इसके अतिरिक्त इन्हें ऐसे पास के ही अन्य खाद टैंकों की भी जानकारियां दी गई।जिसमें जैविक खाद में बदलने के लिए ऐसे कचरों आदि को केंचुओं को डाला गया था। जिसे टैंक के केंचुए अपने भोज्य-आहार बना कर जैविक खाद बना देते हैं।

प्रशिक्षण में शामिल छात्र-छात्राओं को किया प्रशिक्षित

इस मौके पर दिखाते हुए वन विभाग के प्रशिक्षक कर्मचारी नेहरू लाल निषाद व भोलाराम ध्रुव ने प्रशिक्षण में शामिल छात्र-छात्राओं को प्रशिक्षित किया। इस दौरान इन्हें बताया गया कि जैसे कि कुछ जैविक खाद टैंकों में आपने भूर-भूरे खाद को पाया। वह भी पहले ऐसे ही कचरें थे।

जो अब केचुओं की मदद से बदल कर खाद बन चुका है। जिसका उपयोग हम खेती के अलावा भी विभिन्न प्रकार से कर सकते हैं। पेड़-पौधे भी इनमें शामिल है। यह खाद पर्यावरण के अनुकूल होने से भूमि की उर्वरक क्षमता तो बढ़ता ही है साथ ही साथ इससे उत्पादित खाद्यान्न में पौष्टिक होते हैं।

इस तरह से हम कह सकते हैं कि कचरों को इस जैविक पद्धति से खाद में बदल कर सफाई अभियान से भी जुड़ जाते हैं। वास्तव में हम इससे भोज-श्रृंखला की कडी़ को ही सझते हैं। कृषकों को भी इस पद्धति को जैविक कृषि के लिए अपनाना चाहिए। जिससे रासायनिक खाद के लागत से बचा जा सके तथा भूमि की उर्वरक शक्ति बनी रहे।

गांव में गोबर गड्ढें का जैविक कृषि से पुराना नाता रहा है। लेकिन अब इस ऐसे टैंक में केंचुए के माध्यम से खाद तैयार करना आसान हो गया है।

इस प्रशिक्षण में प्रमुख रूप से वन विभाग के कर्मी भागीरथी यादव के साथ एन.एस. एस.अध्यक्ष रोहित ध्रुव, शिविर अध्यक्ष भूषण ध्रुव, रितिका, कुलेश्वरी, सुनंदा, सीमा चौहान, लकेश्वरी पटेल, मनीषा,सोनिया, गिरजा, भारती, गीतांजलि, भामावती, ममता, नोनी बाई, कुलवंत यादव, भूपेन्द्र, फलेश्वर,

सोहन ठाकुर, नंदनी दीवान, चुम्मन भोई, प्रमोद पटेल, अजय बरिहा, यमुना, टोमनलाल, युगल किशोर खुंटे, राजमती, दुर्गा प्रसाद एवं शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बार नवापारा की छात्र-छात्राएं शरीक रहे।उक्ताशय की जानकारी मौके पर मौजूद रहे एन.एस. एस.कार्यक्रम अधिकारी दुर्गेश कुमार वर्मा ने दी।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
Back to top button